नई दिल्‍ली: नोएडा के रहने वाले मृगांक पावगी ने गूगल कॉन्‍टेस्‍ट जीता है. मृगांक 8वीं क्‍लास के छात्र हैं और उन्‍होंने एक ऐसा एंड्रॉयड एप विकसित किया है, जो इंटरनेट सेफ्टी में मददगार होगा. गूगल इंडिया ने 6 फरवरी को गूगल वेब रेंजर्स कॉन्‍टेस्‍ट का तीसरा एडिशन आयोजित किया था, जिसके विजेताओं में मृगांक पावगी भी शामिल हैं. 14 साल के मृगांक विश्‍व भारती स्‍कूल में पढ़ते हैं और साल 2017 में उन्‍होंने यह एप विकसित किया था.

कैसे काम करता है यह एप
मृगांग द्वारा विकसित किया गया यह वेब एप दरअसल एक गेम की तरह है, जो खेल-खेल में लोगों को इंटरनेट सेफ्टी का पाठ पढ़ाता है. इस गेम में 5 लेवल है. यदि खिलाड़ी सभी लेवल्‍स को पार कर लेता है तो उसे इंटरनेट सेफ्टी लर्निंग से संबंधित प्रमाणपत्र दिया जाएगा.

पहले लेवल में यह गेम यूजर्स को WiFi नेटवर्क से कनेक्‍ट करना सिखाएगा और बताएगा कि कौन सा नेटवर्क सुरक्ष‍ित है और कौन सा असुरक्ष‍ित. वहीं दूसरे स्‍तर पर भी वाईफाई कनेक्‍शन और पासवर्ड सेट करने से संबंधित जानकारी देगा. हर स्‍तर पर यह ऐप यूजर्स को उनके परफॉर्मेंस के आधार पर नंबर देगा और उसी आधार पर उन्‍हें सर्ट‍िफिकेट दिया जाएगा.

मृगांक ने बताया कि दुनियाभर में 3.2 बिलियन लोग इंटरनेट इस्‍तेमाल करते हैं. इसमें 50 फीसदी लोग मोबाइल पर वीडियो गेम खेलते हैं. ऐसे में खेल-खेल में उन्‍हें इंटरनेट सेफ्टी के बारे में बताना मजेदार लगा. मृगांक अब एक नये एप पर काम कर रहे हैं.