चंडीगढ़: पंजाब में शनिवार को अमरिंदर सिंह सरकार में 9 नए कैबिनेट मंत्रियों को शामिल किया गया. साथ ही दो महिला मंत्रियों को कैबिनेट मंत्री का दर्जा दिया गया. राज्यपाल वी.पी. बड़नोर ने सभी नए मंत्रियों को यहां राजभवन में शनिवार शाम को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. सभी सदस्य पहली बार मंत्री बने हैं.Also Read - Punjab On High Alert: पाकिस्तान समर्थित आतंकी मॉड्यूल के चार सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद पंजाब में हाई अलर्ट

अरुणा चौधरी और रजिया सुल्तान दो महिला मंत्री हैं, जिन्हें शनिवार को राज्यमंत्री के पद से कैबिनेट मंत्री बनाया गया है. दोनों को राज्यपाल द्वारा कैबिनेट मंत्री पद की शपथ दिलाई गई. ये नए मंत्री हैं ओ.पी. सोनी, राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी, सुखजिंदर सिंह रंधावा, सुखबिंदर सिंह सरकारिया, गुरप्रीत कांगड़, बलबीर सिंह सिद्धू, विजय इंदर सिंघला, भारत भूषण आशू और सुंदर श्याम अरोड़ा. Also Read - सीएम अमरिंदर की किसानों से अपील, 'पंजाब की जगह दिल्ली या हरियाणा की सीमाओं पर प्रदर्शन करें'

कई नेता सत्तारूढ़ पार्टी से हो सकते नाराज.. Also Read - Punjab: पांचवीं कक्षा के प्रश्न पत्र में पूछा गया सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना से जुड़ा सवाल, विपक्ष हुआ हमलावर

कैबिनेट मंत्रियों के पद पूरे भर जाने के कारण उम्मीद लगाए बैठे कई नेता सत्तारूढ़ पार्टी से नाराज हो सकते हैं. अपनी नाखुशी जताने के लिए कुछ पार्टी से इस्तीफा भी दे सकते हैं. जिन मजबूत दावेदारों को दरकिनार किया गया, उनमें भारतीय युवा कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह राजा वारिंग, कुलजीत सिंह नागरा, पूर्व ओलंपिक पदक विजेता परगट सिंह और दलित नेता राजकुमार वेर्का शामिल हैं. कांग्रेस विधायक संगत सिंह गिलजिया, सुरजीत धीमान और नाथू राम ने नई सूची की घोषणा होने के बाद पार्टी पदों से इस्तीफा दे दिया. कुछ वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं और पंजाब प्रभारी आशा कुमारी ने गुस्साए विधायकों को शांत कराने के लिए उनसे बातचीत की. (इनपुट-एजेंसी)