सूरत (गुजरात) : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मशहूर ‘नाम-धारीदार’ जैकेट यहां बुधवार से शुरू हुए चैरिटी नीलामी की प्रदर्शनी से चोरी कर ली गई। एक व्यापारी पोशाक के लिए 1.21 करोड़ की बोली लगाते घूम रहे थे। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की जनवरी में हुई भारत यात्रा के दौरान मोदी द्वारा पहना गया सूट 450 वस्तुओं में शामिल है जिसे बुधवार को नीलामी के तहत रखा गया है। इसे लेकर लोगों में भारी उत्साह है।

भाजपा के एक स्थानीय नेता राजू अग्रवाल ने 51 लाख रुपये की बोली के साथ बॉल रॉलिंग तय किया। लेकिन वह तुरंत ही हीरा व्यापारी सुरेश अग्रवाल की तरफ बढ़ गए। सुरेश अग्रवाल ने उस विशेष सूट के लिए एक करोड़ रुपये की बोली लगाई थी जो जनवरी महीने में विदेशी मीडिया में भी सुर्खियों में छाया रहा था।

शीघ्र ही अग्रवाल एक एनआरआई विराल चोकसी से पीछे रह गए क्योंकि चोकसी ने सूट के लिए 1.21 करोड़ रुपये की बोली लगा दी। यह सूट शुक्रवार को बोली खत्म होने के बाद ‘बिका हुआ’ घोषित कर दिया जाएगा।

दुनिया का ध्यान अपनी ओर खींचने वाले इस सूट को अहमदाबाद में जैड ब्ल्यू के डिजायनर रमेश कुमार ने तैयार किया था। वही मोदी के नियमित टेलर है और उस पर नाम ‘नरेंद्र दामोदरदास मोदी’ स्वर्णाक्षरों में है।

इस सूट ने राजनीतिक विवाद खड़ा कर दिया था। विपक्षी दलों ने प्रधानमंत्री पर ‘अहंकार’ में संलिप्त रहने का आरोप लगाया और यह सवाल उठाया कि सामान्य जीवन से शुरुआत करने वाला एक व्यक्ति किस तरह इस तरह के खर्चीले सूट का वहन कर गया। इस सूट पर कथित रूप से दस लाख रुपये का खर्च आया था।

नीलामी के दिन बुधवार को नरेंद्र मोदी का आदमकद उकेरा गया चित्र सूट से ढका हुआ था।

450 वस्तुओं की नीलामी एसएमसी विज्ञान कान्वेशन सेंटर में हो रही है। ये वस्तुएं प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी को उपहार में दी गई हैं और इससे जुटने वाले पैसे प्रधानमंत्री के क्लीन गंगा मिशन में जाएंगे।