चेन्नई। रविवार को आईआईटी मद्रास में एक बीफ फेस्ट का आयोजन किया गया था जिसमें करीब 50 छात्रों ने भाग लिया. यह आयोजन केंद्र सरकार के मवेशियों की खरीद-बिक्री पर रोक के फैसले के विरोध में हुआ था. इस आयोजन में शामिल पीएचडी छात्र आर सूरज की कॉलेज के ही छात्रों ने मंगलवार को जमकर पिटाई की. सूरज की आंख में गंभीर चोट आई है और उसे अस्पताल में भर्ती किया गया है. फिलहाल इस मामले में पुलिस में कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है.

बीफ फेस्ट के आयोजक अभिनव सूर्या ने हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा कि हॉस्टल की कैंटीन में 6-7 छात्रों ने सूरज को घेर लिया और उस पर हमला बोल दिया. उसकी आंखे में गंभीर चोट लगी है. अभिनव ने बताया कि हमने आईआईटी मद्रास के डीन से इसकी शिकायत की है और अब पुलिस में एफआईआर दर्ज करवाने की योजना भी बना रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः बूचड़खानों के लिए पशुओं की खरीद-बिक्री बैन के मोदी सरकार के फैसले पर मद्रास हाईकोर्ट की रोक

केंद्र सरकार के मवेशियों की खरीद-ब्रिक्री पर रोक के फैसले के विरोध में कई जगह बीफ फेस्ट के आयोजन की खबरें आईं थी. आईआईटी मद्रास से पहले केरल के कन्नूर में बीफ फेस्ट के आयोजन का वीडियो सामने आया था. कन्नूर पुलिस ने युवा कांग्रेस के अध्यक्ष समेत कई कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किया. पार्टी ने भी इन कार्यकर्ताओं से पल्ला झाड़ते हुए सस्पेंड कर दिया. कांग्रेस उपाध्यक्ष समेत कई लोगों ने इसकी आलोचना की थी.

यह भी पढ़ेंः बीफ फेस्ट विवादः केरल के बाद अब IIT मद्रास में आयोजित हुआ बीफ फेस्टिवल

हाल ही में पर्यावरण मंत्रालय ने द प्रीवेंशन ऑफ क्रुएलिटी टू एनिमल्स (रेगुलेशन ऑफ लाइवस्टॉक मार्केट्स) नियम 2017 को नोटिफाई किया है. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि नए नियम बहुत साफ हैं और इसका उद्देश्य पशु बाजारों और गोवंशीय पशुओं की बिक्री को रेगुलेट करना है. साथ ही जानवरों के खिलाफ क्रूरता को रोकना है. इस नियम में बैल, गाय, सांड़, भैंस, बछिया, बछड़े और ऊंट जैसे जानवर शामिल हैं.

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि ये सही नहीं है कि सरकार लोगों के खाने की चीजें भी तय कर रही है. इस फैसले के साथ सरकार उस सेक्टर को तबाह कर रही है, जो हजारों लोगों को रोजगार देता है. सरकार को नोटिफिकेशन जारी करने से पहले राज्यों के साथ बैठकर इस पर सलाह करनी चाहिए थी.