श्रीनगर। सेना के एक शीर्ष कमांडर ने कहा है कि नियंत्रण रेखा के पार आतंकी ठिकानों पर बड़ी संख्या में आतंकवादी मौजूद हैं जो कश्मीर में भारतीय सीमा क्षेत्र में घुसने की ताक में हैं. पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन करना भी घुसपैठियों को मदद देने का प्रयास है. सुरक्षा बलों को इस संबंध में जानकारी मिली है. श्रीनगर स्थित चिनार कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल ए के भट्ट ने जम्मू-कश्मीर लाइट इनफेंट्री सेंटर में पासिंग आउट परेड कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा कि हमारे पास जानकारी है कि कई घुसपैठिए आतंकी ठिकानों पर घुसने की ताक में हैं और हमारा मानना है कि बर्फबारी कम होने के कारण इस वर्ष घुसपैठ जल्द शुरू हो जाएगी. लेकिन हम इसे रोकने के प्रयास कर रहे हैं. गोलीबारी की एक वजह यह (घुसपैठ में मदद देने के लिए) भी हो सकती है. जब भी पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी होती है, यह तय है कि घुसपैठ के प्रयास भी होते हैं. कुपवाड़ा और तंगधार में भी यही हुआ.

उन्होंने बताया कि नियंत्रण रेखा के पार लेपा घाटी से लेकर मंडाल इलाके तक कई जगहों पर 30 से 40 समूहों में मौजूद आतंकवादी घुसपैठ करने का इंतजार कर रहे हैं. मंडाल इलाका 161 ब्रिगेड, रामपुर के पास है. पाकिस्तान के ग्रामीण लोगों से बाहर सुरक्षित जगहों पर चले जाने की घोषणा से जुड़ी खबरों को लेकर सवाल पूछे जाने पर लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट ने कहा कि वे नियंत्रण रेखा के भारतीय सीमा क्षेत्र के ग्रामीणों के लिए नहीं थी.

पढ़ें- कश्मीर: सेना पहली बार आतंकियों के गढ़ तोरा-बोरा में घुसी

सेना अधिकारी ने कहा कि नियंत्रण रेखा से लगे कुछ गांवों के लोगों को सुरक्षा कारणों से बाहर चले जाने को कहा गया और उनकी जानकारी के हिसाब से उन ग्रामीणों ने भी पूरी तरह से गांव खाली नहीं किए हैं. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से शुरू किए गए संघर्ष विराम उल्लंघन का उचित जवाब दिया गया. लेकिन मैं आपको यह भी बताना चाहूंगा कि यह व्यापक रूप में एक स्थानीय मामला है जहां उनकी (पाकिस्तान) कार्रवाइयों के कारण हमें विशिष्ट जगहों पर जवाब देना पड़ा.

पढे़ं- पीडीपी विधायक ने कहा- ‘आतंकी हमारे भाई, मौत पर नहीं मनाना चाहिए जश्न’

उन्होंने कहा, हमारा सभी मोर्चे पर कार्रवाई करने का इरादा नहीं है. हमारा बस यह मानना है कि अगर पाकिस्तान किसी भी तरह की आक्रामक कार्रवाई करता है या घुसपैठियों को सीमा के पार घुसाता है तो हम जवाब देंगे. लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट ने बताया कि कुपवाड़ा में पाकिस्तान के बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) की एक कोशिश नाकाम कर दी गई और इस तरह की कोशिशों से ऐसे ही निपटा जाएगा.