नई दिल्ली: बेटी की चाह रखने वाला ये एक ऐसा व्यक्ति है, जो लड़कियों का अपहरण कर लेता था. इसके बाद लड़की को अच्छे से रखने के बाद कुछ दिन में मासूमों को उनके घर पहुंचा देता था. दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे ही शख्स को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने बताया कि जब भी उसका परिवार उससे यह पूछता कि लड़कियां कहां से आई हैं तो वह उन्हें बताता कि लड़की उसके दोस्त की बेटी है, जो बाहर गया हुआ है और उसने लड़की की देखभाल करने की जिम्मेदारी उसे दी है. पुलिस ने 40 साल के व्यक्ति को पश्चिमी दिल्ली से दो लड़कियों का अपहरण करने के आरोप में गिरफ्तार किया है. Also Read - दिल्ली में Bird Flu! 200 पक्षियों की मौत से मची खलबली, जांच के लिए लुधियाना भेजे गए सैंपल

Also Read - यूपी में चलती कार में दो लड़कियों को खींच कर किया था किडनैप, एक लड़की से रेप करने का आरोपी गिरफ्तार

एमपी: ये है झोपड़ी में रहने वाला बीजेपी विधायक, पब्लिक चंदा कर बनवा रही घर Also Read - नई दिल्ली में मंदिर हटाने पर मचा हंगामा, केजरीवाल सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे लोग

पुलिस ने सोमवार को बताया कि आरोपी की पहचान कृष्ण दत्त तिवारी (40) के रूप में हुई है. पेशे से चालक तिवारी राजौरी गार्डन में रहता है. पुलिस ने बताया कि कीर्ति नगर में जवाहर कैम्प के एक निवासी ने शुक्रवार को अपनी आठ वर्षीय बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई जो पास के ही एक सार्वजनिक शौचालय में गई थी. अगले दिन सुबह लड़की अपने आप सुरक्षित घर पहुंच गई. पूछताछ में लड़की ने बताया कि वह शौचालय गई थी, जहां एक व्यक्ति ने उसे अपनी बाइक पर अपने घर ले चलने का लालच दिया.

प्रियंका अगर ‘इक्का’ तो कांग्रेस क्या अब तक ‘जोकर’ से खेल रही थी: बीजेपी सांसद सरोज पांडे

पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) मोनिका भारद्वाज ने बताया कि लड़की रातभर उस व्यक्ति के घर में रही और अगली सुबह उसे उसके घर के पास के एक स्थान पर छोड़ दिया गया. लड़की ने यह भी कहा कि आरोपी ने उसे नुकसान नहीं पहुंचाया. भारद्वाज ने बताया कि जांच के दौरान पुलिस ने आसपास के इलाकों की सीसीटीवी फुटेज खंगाली और देखा कि एक व्यक्ति लड़की को राजौरी गार्डन के समीप रिंग रोड पर छोड़ रहा है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, आरोपी ने बताया कि उसके दो बेटे हैं और वह हमेशा से एक बेटी चाहता था.

VIDEO: पूर्व सीएम सिद्धारमैया ने महिला का किया अपमान, माइक छीनने की कोशिश में साड़ी भी खिंची

डीसीपी ने बताया कि पूछताछ में पुलिस को पता चला कि उसने लालच दिया और लड़की का अपहरण किया और उसे रात भर अपने पास रखा. बाद में उसने यह भी कबूल किया कि करीब दो महीने पहले उसने हरी नगर इलाके से आठ वर्षीय लड़की का अपहरण किया था. उस समय भी उसने लड़की को दो से तीन दिन अपने पास रखने के बाद छोड़ दिया था.

पुलिस ने बताया कि जब भी तिवारी का परिवार उससे यह पूछता कि लड़कियां कहां से आई हैं तो वह उन्हें बताता कि लड़की उसके दोस्त की बेटी है, जो बाहर गया हुआ है और उसने लड़की की देखभाल करने की जिम्मेदारी उसे दी है.