नई दिल्‍ली: कर्नाटक में बीते दिनों विवादित बयान देने वाले एआईएमआईएम (AIMIM) नेता वारिस पठान (Waris Pathan) को कलबुर्गी पुलिस ने नोटिस जारी किया है. एआईएमआईएम नेता वारिस पठान के कर्नाटक में विवादित बयान, ”15 करोड़ हैं मगर 100 के ऊपर भारी हैं” को लेकर चल रही जांच में शामिल होने के लिए 29 फरवरी को जांच अधिकारी के सामने बयान देने के लिए कहा गया है. यह जानकारी कलबुर्गी के पुलिस कमिश्‍नर एमएन नागराज ने कही है. Also Read - Oxygen Shortage Deaths in Karnataka: कर्नाटक में अस्पताल में ऑक्‍सीजन की कमी से 24 मरीजों की मौत

एआईएमआईएम नेता वारिस पठान ने 16 फरवरी को उत्तरी कर्नाटक के कलबुर्गी में सीएए विरोधी रैली को संबोधित करते हुए विवादित बयान दिया था Also Read - Covid-19: देश के इन 10 राज्‍यों में कोरोना वायरस संक्रमण से 77 फीसदी हुईं नई मौतें

उत्तरी कर्नाटक में 16 फरवरी को कलबुर्गी में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ एक रैली को संबोधित करते हुए वारिस पठान ने कहा था, ”हमें साथ आना होगा. हमें आजादी लेनी होगी. जो चीजें मांगकर नहीं मिलती हैं, उनसे जबरन लेना होगा, याद रखें…भले ही हम 15 करोड़ हैं, लेकिन 100 करोड़ पर भारी हैं.” Also Read - COVID-19: बेंगलुरु में कोरोना के 3,000 पॉजिटिव मरीज घरों से गायब हुए, फोन स्विच ऑफ बता रहे

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल-मुस्लिमीन (एआईएमआई) नेता को हिंदी में यह बोलते हुए वीडियो में सुना जा सकता है, ”हमें साथ चलना होगा. हमें आजादी लेनी होगी. जो चीजें मांगने से नहीं मिलती, हमें छीननी होगी.” वीडियो में वह कहते सुने जा सकते हैं, ”अब वक्त आ गया है. हमको बोला कि मां-बहनों को आगे भेज दिया और खुद कंबल में बैठ गए. अभी तो सिर्फ शेरनियां बाहर निकली हैं और तुम्हारे पसीने छूट गए. समझ लो, हम लोग साथ आ गए तो क्या होगा.”

कालबुर्गी पुलिस कमिश्नर एम एन नागराज ने कहा, ” हमने AIMIM नेता वारिस पठान को उनकी टिप्‍पणी ( ’15 करोड़ हैं मगर 100 के ऊपर भारी हैं’) पर नोटिस दिया है. उन्‍हें 29 फरवरी को जांच अधिकारी के सामने पेश होने और अपना बयान देने के लिए कहा गया है. बता दें कि इस बयान के बाद वारिस पठान ने कहा था कि मेरे बयान को तोड़मरोड़ कर पेश किया गया है.