नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट में फिल्म ‘तानाजी-द अनसंग वॉरियर’ (Tanhaji-The Unsung Warrior) के खिलाफ याचिका दायर कर फिल्म के निर्देशकों को तानाजी के वास्तविक वंश को दिखाने का निर्देश देने की अपील की गई है. याचिका में दावा किया गया है कि दस जनवरी को पर्दे पर आ रही फिल्म में राजनीतिक और वाणिज्यिक लाभ हासिल करने के लिए तानाजी के वंश को जानबूझकर छिपाया गया है.

दिल्ली उच्च न्यायालय में इस मामले को 19 दिसंबर को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया. अजय देवगन और काजोल स्टारर आगामी फिल्म ‘तानाजी-द अनसंग वॉरियर’ को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई है. अखिल भारतीय क्षत्रिय कोली राजपूत संघ दिल्ली ने अदालत से गुहार लगाते हुए दावा किया है कि फिल्म के निर्देशक ने तानाजी मालुसरे के असली वंश को छुपा दिया है.

याचिका में अनुरोध किया गया है कि अगर फिल्म में तानाजी मालुसरे का वास्तविक वंश नहीं दर्शाया गया है, तो अदालत केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) को फिल्म को प्रमाण पत्र नहीं देने का निर्देश दे.

अखिल भारतीय कोली राजपूत संघ (Akhil Bhartiya Kshatriya Koli Rajput Sangh) की ओर से दायर याचिका में आरोप लगाया गया है फिल्म के निर्माता गलत तरीके से तानाजी को मराठा समुदाय से संबंधित दिखा रहे हैं जबकि वास्तव में वह एक क्षत्रिय महादेव कोली थे.

अखिल भारतीय कोली राजपूत संघ ने याचिका में दावा किया गया है कि दस जनवरी को पर्दे पर आ रही फिल्म में राजनीतिक और वाणिज्यिक लाभ हासिल करने के लिए तानाजी के वंश को जानबूझकर छिपाया गया है.