नई दिल्ली: राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के गार्गी कॉलेज में छात्राओं के साथ कथित यौन उत्पीड़न मामले को संज्ञान में लिया है. एनसीडब्ल्यू की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने सोमवार को इसकी पुष्टि की. एनसीडब्ल्यू का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को गार्गी कॉलेज जाएगा.

गार्गी कॉलेज के कुछ छात्राओं ने शनिवार को आरोप लगाया था कि नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) समर्थक बताए जा रहे कुछ लोग शराब पीकर कॉलेज में घुस गए थे और उन्होंने छात्राओं के साथ दुर्व्यवहार किया था.

छात्राओं ने कहा कि यह घटना कुछ दिन पहले वार्षिकोत्सव रिवेरी के तीसरे दिन घटी थी. कुछ लोग शराब पीकर कथित रूप से कॉलेज में घुस गए थे और छात्राओं के साथ मारपीट की थी.

गार्गी कॉलेज की एक छात्रा ने अपने ब्लॉग पर लिखा, “लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार किया गया, शौचालयों में बंद कर दिया गया और नजदीकी ग्रीन पार्क मेट्रो तक उनका पीछा किया गया, फब्तियां कसी गईं, छेड़खानी की गई और उत्सव के दौरान दुर्व्यवहार किया गया.”

ब्लॉग में आगे लिखा, “वे लोग कथित रूप से जय श्री राम के नारे लगा रहे थे, जिससे हमें लगा कि वे हिंदुत्व/भाजपा से संबद्ध थे. हम यह नहीं जानते कि यह कितना सच है, क्योंकि जिसने भी यह देखा है वह आगे आने से डरता है.”

नाम गोपनीय रखने की शर्त पर एक छात्रा ने आईएएनएस से कहा, “मैं छेड़खानी के आरोपों की पुष्टि नहीं कर सकता, लेकिन कई लोग शराब पीकर अंदर आए थे और उन्होंने छात्राओं से दुर्व्यवहार किया था.”