नई दिल्लीः सफरदरगंज हॉस्पिटल में शुक्रवार की रात उन्नाव रेप की पीड़िता ने आखिरी सांस ली. पीड़िता की मौत के बाद लोगों में जमकर गुस्सा है. पीड़िता के परिजनों के साथ साथ जनता आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा की मांग कर रही है. इस बीच दिल्ली से एक हैरान करने वाली खबर सामने आई है. सफरदरगंज हॉस्पिटल के बाहर एक महिला ने अपनी बच्ची पर पेट्रोल डाल दिया.

दरअसल महिला उन्नाव की बेटी के साथ हुई हैवानियत के विरोध में प्रदर्शन कर रही थी. तभी उसने अपनी छह साल की बेटी पर पेट्रोल डाल दिया इसके बाद वहां मौजूद महिला पुलिसकर्मियों ने उसे हिरासत में ले लिया. घटना के बाद नाबालिक बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में रखा गया है.


उन्नाव की बहादुर बेटी हारी जिंदगी की जंग, भाई को बुलाकर कहा था अगर मैं मर जाती हूं तो..

इस वारदात के बाद आस पास मौजूद पुलिस महकमें में हड़कंप मच गया. पुलिस महिला को हिरासत में लकर पूंछ ताछ कर रही है. जानकारी के अनुसार महिला उन्नाव रेप पीड़िता की मौत से बहुत ज्यादा परेशान हो गई थी और इसी कारण उसने इस तरह का रास्ता चुना. डॉक्टरों की एक टीम बच्ची का इलाज कर रही है.

उन्नाव में ज़िंदा जलाई गई रेप पीड़िता के आखिरी शब्द- ‘भैया मैं जीना चाहती हूं, मुझे बचा लो’

गौरतलब है कि हैदराबाद में वेटेनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म और उसे जिंदा जलाए जाने की घटना के कुछ दिनों बाद उत्तर प्रदेश के उन्नाव में गुरुवार को एक दुष्कर्म पीड़िता को आरोपियों ने पेट्रोल डालकर आग के हवाले कर दिया था. पीड़िता ने शुक्रवार की रात दम तोड़ दिया. हालांकि सभी पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. पीड़िता के साथ आरोपियों ने बीते वर्ष दिसंबर में दुष्कर्म किया था.