उत्तर प्रदेश पुलिस ने ग्रेटर नोएडा से क्रेडिट कार्ड के जरिए धोखाधड़ी करने वाले दो लोगों को गिरफ्तार किया है. इन लोगों ने फर्जी आधार और पैन कार्ड के जरिए क्रेडिट कार्ड बनवाया था. इस क्रडिट कार्ड से उन दोनों ने बैंकों को करोड़ों रुपये का चूना लगाया है. राज्य पुलिस के स्पेशल टॉस्क फोर्स (STF) ने इनके पास से 25 हजार नागरिकों का इलेक्ट्रॉनिक डाटा भी बरामद है. इस डाटा में लोगों के फोन नंबर, आधार नंबर और पैन नंबर शामिल हैं. इसके अलावे इनके पास से 6 हजार अन्य लोगों के पैन और आधार नंबर की एक दूसरी सूची भी बरामद की गई है. Also Read - इनकम टैक्‍स विभाग ने कहा- PAN को 31 मार्च तक AADHAR से जोड़ना अनिवार्य, ऐसे करें लिंक

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इन लोगों को स्थानीय पुलिस की मदद से मंगलवार की रात ग्रेटर नोएडा के बिसरख इलाके से गिरफ्तार किया गया. इन दोनों की पहचान राजस्थान के श्रीगंगा नगर के निवासी राज सक्सेना और हाथरस के कौटिल्य शर्मा के रूप में की गई है. Also Read - वोटर ID Card को Aadhaar से लिंक करने की पैरवी संसदीय समिति ने की, ये होगा फायदा

डीएसपी राज कुमार मिश्रा ने बताया कि इलेक्ट्रॉनिक डाटा के अलावे इनके पास से 29 फर्जी आधार कार्ड्स, 10 फर्जी पैन कार्ड्स, विभिन्न कंपनियों के लोगों की सैलरी स्लीप और कुछ अन्य दस्तावेज बरामद किए गए हैं. Also Read - 17.58 करोड़ लोगों के लिए जरूरी खबर, 31 मार्च तक करें ये काम, नहीं तो होगा बड़ा नुकसान

डीएसपी ने यह भी बताया कि इन दोनों को 2013 में फर्जीवाड़े के ही एक अन्य मामले में गिरफ्तार किया गया था. उस वक्त इन दोनों ने छत्तीसगढ़ के तत्कालीन मुख्यमंत्री निजी सहायक को ठगा था. 2016 में इन दोनों को बजाज फाइनेंस सर्विस के साथ धोखाधड़ी के मामले में जेल भेजा गया था. इस मामले में बिसरख पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया