नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन का केंद्र बने शाहीन बाग में हाल ही में कपिल गुज्जर नामक जिस युवक ने हवा में गोली चलाकर दशहत फैला दी थी, पुलिस सूत्रों से पता चला है कि उसके मोबाइल से कुछ ऐसे फोटो मिले हैं, जिसमें वह आम आदमी पार्टी (आप) की सदस्यता ग्रहण करते हुए दिख रहा है. पुलिस के अनुसार, दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच को कपिल के मोबाइल फोन से जो तस्वीरें मिली हैं, उनमें वह राज्यसभा सांसद और आप के कद्दावर नेता संजय सिंह के साथ दिख रहा है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि एक फरवरी को शाहीन बाग इलाके में फायरिंग करने वाले कपिल गुज्जर ने अपने पिता सहित अन्य सदस्यों के साथ आम आदमी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की थी. कपिल की तस्वीर कालकाजी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहीं आप की वरिष्ठ नेता आतिशी के साथ भी पाई गई है. उसने दोनों नेताओं के समक्ष आप की सदस्यता ग्रहण की थी. क्राइम ब्रांच के एक अधिकारी ने कहा कि प्रारंभिक जांच में कपिल के फोन से कुछ फोटो मिले हैं, जिससे यह पता चलता है कि उसने एक साल पहले आम आदमी पार्टी ज्वाइन की थी. उन्होंने बताया कपिल ने खुद भी इसका जिक्र किया था. उल्लेखनीय है कि सोमवार को कपिल गुज्जर को कोर्ट ने दो दिनों की पुलिस रिमांड पर भेज दिया था. फिलहाल क्राइम ब्रांच उससे पूछताछ कर रही है.

BJP अध्यक्ष नड्डा बोले: आप और केजरीवाल का गंदा चेहरा बेनकाब
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को शाहीन बाग में गोली चलाने वाले की पहचान आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्य के रूप में होने पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि इससे आप और केजरीवाल का ‘गंदा’ चेहरा बेनकाब हो गया है जो देश की सुरक्षा के साथ खेल रहे हैं. नड्डा ने ट्वीट किया कि देश और दिल्ली के लोगों ने आज आम आदमी पार्टी का ‘गंदा’ चेहरा देख लिया. उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि राजनीतिक लालसा के लिए केजरीवाल और उनके लोगो ने देश की सुरक्षा तक को बेच तक दिया. पहले केजरीवाल सेना का अपमान करते थे और आतंकवादियों की वकालत लेकिन आज तो उनके आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वालो से सम्बंध सामने आ गए. उन्होंने कहा कि वह केजरीवाल को स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि यह देश किसी भी चुनाव, किसी भी सरकार से बड़ा है और यह राष्ट्र उन लोगों को माफ नहीं करेगा जो उसकी सुरक्षा के साथ खेलते हैं. केजरीवाल और उनकी पूरी टीम बेनकाब हो गयी है. दिल्ली के लोग मुंहतोड़ जवाब देंगे. उन्होंने दावा किया कि पूरे देश में दिल्ली सरकार के मंत्री इमरान हुसैन की कट्टरपंथी आतंकवादी संगठन पीएफआई के साथ तस्वीरें देखी हैं.