नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को शुक्रवार को बजट पेश करने से पहले पारंपरिक लाल रंग के ब्रीफकेस के बजाय लाल रंग के कपड़े में लिपटे बजट दस्तावेज के साथ देखा गया. कपड़े के ऊपर अशोक स्तंभ बना था. मुख्य आर्थिक सलाहकार के. सुब्रमण्यम ने कहा कि यह पश्चिमी प्रथा की गुलामी का प्रस्थान है. प्रत्येक भारतीय व्यापारी अपने व्यापार का हिसाब रखने के लिए पारंपरिक रूप से बहीखाता रखता है, यह लाल कपड़ा उसका प्रतीक है. Also Read - पीएम मोदी ने कहा- कोरोना वायरस ने हमारे धर्मों, हमारी सोच पर हमला बोला है, इसे पराजित करने को एकजुट हों

सीतारमण को लाल रंग के कपड़े में लिपटे बजट के दस्तावेज लाते हुए देखा गया था जो पीले और लाल धागे से बंधा हुआ था. इससे पहले सभी वित्तमंत्रियों को लाल रंग के सूटकेस में बजट पेश करते हुए देखा गया था. वे नरेंद्र मोदी 2.0 का पहला पूर्ण बजट पेश कर रही हैं. Also Read - कोविड-19: पीएम मोदी ने बताए स्वस्थ रहने के नुस्खे, कहा- साल भर गर्म पानी पीता हूं और...

Union Budget 2019 live Update: वित्त मंत्री का बजट भाषण शुरू, कहा- आर्थिक सुधारों में अब और तेजी आएगी Also Read - कोरोना वायरस के 'इलाज और टीके' के लिए पीएम मोदी ने की फ्रांस के राष्ट्रपति से बात

बजट भाषण की शुरुआत करते हुए निर्माल सीतारमण ने कहा कि हालिया लोकसभा चुनाव नया भारत के लिए था. इस साल अर्थव्यवस्था 3 ट्रिलियन डॉलर की हो जाएगी, लक्ष्य पाने के लिए जनभागीदारी जरूरी है, चाणक्य नीति आज भी हमारे लिए मार्गदर्शक. वित्त मंत्री निर्माला सीतारमण का बजट भाषण सुनने के लिए उनके माता-पिता भी संसद भवन पहुंचे हैं.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ऐतिहासिक जनादेश के साथ सत्ता में आई मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करने वाली हैं. वित्त मंत्री लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चुनाव प्रचार अभियान में किए गए वादों में से कई को पूरा कर सकती हैं. मत्स्य पालन के लिए अलग से मंत्रालय गठित करने (मोदा का एक वादा) की घोषणा के साथ बजट में ‘नीली क्रांति’ शुरू करने के लिए योजनाएं हो सकती हैं. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा छोटे मछुआरों के लिए भंडारण और मार्केटिंग जैसी आधारभूत संरचनाओं के लिए 10,000 करोड़ रुपये स्वीकृत करने के वादे के पूरा होने की उम्मीद है.