नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने रामलीला मैदान में आज दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. केजरीवाल तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री बने हैं. गौरतलब है कि इससे पहले वह दो बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. इस दौरान राज्यपाल ने मनीष सिसोदिया को भी उपमुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. Also Read - लोग लॉकडाउन के दौरान घरों में रहें, जरूरी चीजें और सेवाएं मिलेंगी: सीएम अरविंद केजरीवाल

पूरे फॉर्म में चल रही आम आदमी पार्टी (आप) के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने रविवार को कहा कि पार्टी के साथ एक करोड़ लोगों को जोड़ने के लिए आप के विस्तार योजना के तहत 23 फरवरी से 23 मार्च तक उनका दल देशव्यापी अभियान चलाएगा. राष्ट्रीय राजधानी में मुख्यमंत्री के आवास पर पार्टी के राज्य पदाधिकारियों के साथ बैठक के बाद राय ने कहा, “ तीन चीजों पर काम करने का निर्णय लिया गया है.” Also Read - Covid-19: कोरोना वायरस के खिलाफ जंग: पूरी दिल्ली में 31 मार्च तक 'लॉक डाउन'

उन्होंने कहा, “ पहले निर्णय के तहत राज्य इकाइयां 23 फरवरी से 23 मार्च तक राष्ट्रीय निर्माण अभियान शुरू करेंगी. इसके तहत सभी कार्यकर्ता सभाएं करेंगे और उनका मकसद एक करोड़ लोगों को पार्टी से जोड़ना होगा.” राय ने कहा, “ दूसरे निर्णय के तहत वे एक पोस्टर अभियान भी चलाएंगे जिसमें दर्ज मोबाइल नंबर पर लोगों से मिस्ड काल करने के लिए कहेंगे.’’ Also Read - Covid-19: सीएम अरविंद केजरीवाल का बड़ा बयान- अगर जरूरत पड़ी तो दिल्ली को लॉकडाउन करेंगे

उन्होंने कहा कि तीसरे कदम के तौर पर सभी राज्यों के पार्टी पदाधिकारी राजधानियों में, फिर प्रमुख शहरों में संवाददाता सम्मेलन का आयोजन करेंगे और राष्ट्र निर्माण के लिए लोगों को आम आदमी पार्टी में शामिल होने के लिए कहेंगे. राय ने कहा, ‘‘कई राज्यों में आने वाले महीनों में चूंकि स्थानीय निकायों के चुनाव निर्धारित हैं, हम चाहते हैं कि यह अभियान जमीनी स्तर पर चले ताकि हम स्थानीय निकाय के चुनाव लड़ सकें और बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकें.’’ अभियान के अगले चरण में पार्टी यह तय करेगी कि कहां विधानसभा चुनाव लड़ा जाए. पार्टी पहले ही स्थानीय चुनाव लड़ने के बारे में निर्णय कर चुकी है.

आम आदमी पार्टी निर्वाचन आयोग में फिलहाल राज्य पार्टी के तौर पर पंजीकृत है और 2017 में पंजाब विधानसभा चुनाव में यह मुख्य विपक्षी के तौर पर उभरी थी. बैठक में पार्टी के बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, गोवा और कर्नाटक सहित अन्य राज्यों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था.

इनपुट-एजेंसी