नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने बृहस्पतिवार को दक्षिण दिल्ली सीट के लोकसभा नतीजे को उच्च न्यायालय में चुनौती दी. इस सीट से भाजपा के रमेश बिधूड़ी को विजेता घोषित किया गया है. चड्ढा ने इस सीट से चुनाव लड़ा था, मगर बिधूड़ी 3.6 लाख से ज्यादा मतों से जीते थे.

 

याचिका में कहा गया है कि एक उम्मीदवार के रूप में बिधूड़ी ने अपने हलफनामे में जानकारी का अधूरा खुलासा किया है. यह मामला न्यायमूर्ति संजीव नरुला के समक्ष शुक्रवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया है. याचिका में मांग की गई है कि बिधूड़ी को विजेता घोषित किए जाने वाले परिणाम को अमान्य घोषित किया जाए और दूसरे स्थान पर रहने वाले चड्ढा को विजेता उम्मीदवार घोषित किया जाए. वकील आर ए अय्यर के जरिए दायर की गई याचिका में दलील दी गई है भाजपा उम्मीदवार ने जानबूझकर बिहार के मुजफ्फरपुर के थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 504, 506, 153 और 153 (ए) के तहत दर्ज प्राथमिकी के बारे में तथ्य छुपाये.

याचिका में आरोप लगाया गया है कि बिधूड़ी ने अपनी और अपनी पत्नी की झूठी आय घोषित की है. याचिका में दावा किया गया है कि अपने खिलाफ दर्ज आपराधिक मामले का खुलासा नहीं करके और उसका प्रचार नहीं करके भाजपा उम्मीदवार ने राष्ट्रीय राजधानी के नागरिकों को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के लिये अनुचित रूप से प्रभावित करने के वास्ते भ्रष्ट तरीकों का सहारा लिया.