दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के मंत्रियों की मुश्किलों का दौर जारी है। सरकार में केजरीवाल के विश्वासपात्र माने जाने वाले स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन अब हवाला मामले में फंसते नजर आ रहे हैं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने जैन को हवाला के माध्यम से करीब 17 करोड़ रुपये के ट्रांसफर मामले में उन्हें समन भेजकर 4 अक्टूबर को उपस्थित होने को कहा है।

इनकम टैक्स की जांच में जैन पर कथित तौर पर इंडो मेटल इंपैक्स, अकिंचन डिवेलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, प्रयास इंफो सॉल्यूशन और मंगलयातन प्रॉजेक्ट नामक चार कंपनियों को गलत तरीके से 17 करोड़ रुपये ट्रांसफर करने और कंपनियों से चेक पाने का आरोप है। यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्धसैनिक बलों को दिया बड़ा तोहफा

उधर जैन ने ऐसे किसी मामले में शामिल होने से साफ इनकार करते हुए पहले तो ट्विट किया और कहा, ‘जांच के लिए नहीं पूछताछ के लिए बुलाया गया है। मुझे सिर्फ एक गवाह के तौर पर बुलाया गया है। पहले मैंने इन कंपनियों में इन्वेस्ट किया है लेकिन 2013 से इनसे मेरा कोई नाता नहीं है।’ राजनीति में आने के बाद मैंने सब काम छोड़ दिए थे।

उधर अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘मैंने आज सुबह सत्येंद्र को बुलाया था और मैंने उनके सारे दस्तावेज देखे। वह निर्दोष हैं उन्हें फंसाया जा रहा है। अगर वह दोषी होते तो अब तक हमने उन्हें पार्टी से निकाल दिया होता।’ इसके साथ ही इसके साथ केजरीवाल नें लिखा, आप विधायकों और मंत्रियों के खिलाफ फर्जी मामले, मेरे खिलाफ FIR, मेरे ऊपर CBI के छापे- क्यों? एक बहुत बड़ा षड्यंत्र. शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा में खुलासा करूंगा।

बाद में इस पूरे मामले पर पत्रकारों के सामने अपना पक्ष रखते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल 2 दिनों के अंदर विधानसभा में एक बड़ा खुलासा करने वाले हैं और जिस टीवी चैनल्स में हिम्मत हो उसका प्रसारण करें और अपने चैनल पर दिखाएं।