नई दिल्ली. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पर बैठक के दौरान दिल्ली के मुख्य सचिव पर कथित हमला मामले में AAP विधायक का बयान नया बखेड़ा खड़ा कर सकता है. उत्तम नगर में रैली को संबोधित करते वक्त AAP विधायक नरेश बाल्यान ने कहा कि जो चीफ सेक्रेटरी के साथ हुआ, जो उन्होंने झूठा आरोप लगाया, मैं तो कह रहा हूं ऐसे अधिकारियों को ठोकना चाहिए, जो आम आदमी के काम रोक के बैठे हैं ऐसे अधिकारियों के साथ यही सलूक होना चाहिए. 

CCTV Cameras running 40 minutes behind at kejriwal house said delhi police । 40 मिनट पीछे चल रहे थे केजरीवाल के घर लगे सीसीटीवी कैमरे: दिल्ली पुलिस

CCTV Cameras running 40 minutes behind at kejriwal house said delhi police । 40 मिनट पीछे चल रहे थे केजरीवाल के घर लगे सीसीटीवी कैमरे: दिल्ली पुलिस

बता दें कि इससे पहले, दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर AAP विधायकों के कथित हमले के मामले में सबूत जुटाने के लिए दिल्ली पुलिस की एक टीम राष्ट्रीय राजधानी के सिविल लाइंस इलाके में स्थित मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आवास पहुंची. उत्तर दिल्ली के अतिरिक्त डीसीपी हरींद्र सिंह ने बताया, ‘दिल्ली के मुख्य सचिव पर कथित हमला मामले में सीसीटीवी फुटेज समेत तमाम सबूत जुटाने के लिये पुलिस की एक टीम को मुख्यमंत्री आवास भेजा गया है.’

इस पर प्रतिक्रिया देते हुए केजरीवाल ने कहा, ‘खूब सारी पुलिस मेरे घर भेजी है. मेरे घर की छानबीन चल रही है. बहुत अच्छी बात है. पर जज लोया के कत्ल के मामले में अमित शाह से पूछताछ कब होगी?’ केजरीवाल ने कहा कि उनके मंत्रिमंडल ने इस मामले में उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात का समय मांगा है.

एक अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में ये सारी सेवाएं उपराज्यपाल के अंतर्गत आती हैं इसलिए मंत्रिमंडल उनसे अनुरोध करेगा कि वह सभी नौकरशाहों को आप सरकार के साथ काम करने का निर्देश दें. दिल्ली के मुख्य सचिव पर कथित हमला मामले में जांच चल रही है. दिल्ली सरकार के प्रवक्ता अरुणोदय प्रकाश के अनुसार करीब 60-70 पुलिसकर्मियों ने मुख्यमंत्री आवास में प्रवेश किया.

 

प्रकाश ने ट्विटर पर लिखा, ‘मुख्यमंत्री आवास को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया. बिना किसी सूचना के बड़ी तादाद में पुलिसकर्मी मुख्यमंत्री आवास में घुस आये. पुलिस राज ने दिल्ली में लोकतंत्र की हत्या कर दी. मुख्यमंत्री आवास के अंदर पुलिस चारों ओर फैल गई. अगर वे एक निर्वाचित मुख्यमंत्री के साथ ऐसा कर सकते हैं तो सोचिए वे गरीब लोगों के साथ क्या कर सकते हैं!!!’

उन्होंने ट्वीट किया, ‘लोकतंत्र में एक न्यूनतम शिष्टाचार है. हर नागरिक को संविधान के तहत अधिकार प्राप्त है. यह उस मुख्यमंत्री को अपमानित करने का प्रयास है जो गरीबों एवं समाज के आखिरी व्यक्ति तक के लिये बिना थके काम कर रहे हैं.’

सोमवार रात केजरीवाल के आवास पर एक बैठक के दौरान दिल्ली के मुख्य सचिव पर कथित हमला मामले में बुधवार को पुलिस ने देवली से आप विधायक प्रकाश जरवाल और ओखला से आप विधायक अमानतुल्ला खान को गिरफ्तार किया था.