नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती और एस के बग्गा को आज पुलिस ने उपराज्यपाल (एलजी) ऑफिस से कथित तौर पर निकाल दिया. डीडीए की एक बैठक में शरीक होने के लिए वहां गए भारती और बग्गा उपराज्यपाल से मिलने के लिए समय मांग रहे थे. दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) के सदस्य भारती और बग्गा बैठक के बाद उप राज्यपाल कार्यालय वापस गए और उन्होंने एलजी अनिल बैजल से मिलने का समय मांगा.

एलजी के आवास से जाने से इनकार

वहीं, राजनिवास के एक बयान में दावा किया गया है कि बैठक समाप्त होने के बाद विधायक सोमनाथ भारती और एस के बग्गा ने मुख्यमंत्री के धरना में शामिल होने के बहाने उपराज्यपाल के आवासीय परिसर से जाने से इनकार कर दिया. दोनों विधायकों को एलजी के आवासीय परिसर से चले जाने का बार-बार अनुरोध किया गया.

बयान के मुताबिक, भारती और बग्गा ने वहां से जाने से इनकार कर दिया और वहां अवैध रूप से दो घंटे तक टिके रहे. समझाने बुझाने के बाद ही वे वहां से निकले. हालांकि, एलजी कार्यालय में 11 जून से अनिश्चितकालीन धरना पर बैठे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस घटना पर कहा कि यह एलजी का संवैधानिक कर्तव्य है कि वे निर्वाचित जन प्रतिनिधियों से मुलाकात करें.

केजरीवाल ने साधा निशाना

उन्होंने ट्वीट किया , दो विधायकों को एलजी ने पुलिस के जरिए जबरन निकाला. सिर्फ इसलिए कि वे उनसे मिलना चाहते थे. क्या हो रहा है? एलजी विधायकों, सांसदों, मुख्यमंत्री से मिलने से क्यों इनकार कर रहे हैं? क्या एलजी जानते हैं कि इन लोगों से मिलना उनका संवैधानिक कर्तव्य है. यह आश्चर्यजनक है .

भारती ने आरोप लगाया कि भारी पुलिस बल ने उन्हें एलजी कार्यालय से निकाला. हालांकि , एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि भारती और बग्गा को एलजी ने मिलने का कोई वक्त नहीं दिया था और उनसे वहां से जाने को कहा गया. इस बीच , राजनिवास ने एक बयान में कहा कि दिल्ली के मास्टर प्लान 2021 में प्रस्तावित संशोधन के मुद्दे पर जन सुझावों और टिप्पणियों पर विचार करने के लिए डीडीए की एक बैठक हुई जिसकी एलजी अनिल बैजल ने अध्यक्षता की.

एलजी दफ्तर में भूख हड़ताल-धरना

बता दें कि अरविंद केजरीवाल पिछले 8 दिनों से एलजी दफ्तर में धरना दे रहे हैं. उनके साथ गोपाल राय भी मौजूद हैं. सातवें दिन भूख हड़ताल पर बैठे सत्येंद्र जैन और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की तबियत बिगड़ने के बाद दोनों के अस्पताल ले जाया गया था. बताया जा रहा है कि सिसोदिया अब काम पर लौटेंगे.