कोलकाता: आईएसआईएस के कथित आतंकी अबू मूसा ने मंगलवार को एक अदालत में सुनवाई के दौरान न्यायाधीश पर जूता फेंक दिया. सख्त यूएपीए कानून के तहत उसके खिलाफ मुकदमा चल रहा है. हालांकि, यह जूता न्यायाधीश प्रसेनजीत बिस्वास को नहीं लगा और राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के वकील तमल मुखर्जी इसके निशाने पर आ गए. मुखर्जी ने दावा किया कि हमले में वह घायल हो गए. Also Read - ममता बनर्जी का चुनाव आयोग से अनुरोध, 'केवल बीजेपी की ही नहीं, सभी की सुनें'; लगाया पक्षपात का आरोप

आईएसआईएस और जमात उल मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) से कथित जुड़ाव के लिए 2016 में गिरफ्तार मूसा न्यायिक हिरासत में हैं और युवाओं को कट्टर बनाने में भूमिका के लिए उसके खिलाफ मुकदमा चल रहा है. Also Read - Bihar: पश्‍चिम बंगाल में भीड़ के हमले में मारे गए SHO की बेटी ने कहा- यह षड़यंत्र, मैं CBI जांच की मांग करती हूं

आरोपी इससे पहले भी जेल में हिंसक बर्ताव कर चुका है. उसने जूता उछालने से पहले अदालत में चिल्लाकर कहा कि वह इंसानों के बनाए गए कानून में यकीन नहीं रखता और उसे इंसाफ नहीं मिलेगा. वर्ष 2018 में मूसा ने शहर की प्रेसीडेंसी जेल में एक जेल वार्डन पर हमला कर उन्हें घायल कर दिया था. Also Read - ईरान के नातान्ज परमाणु इकाई में क्‍या हुआ? इसे ईरानी न्‍यूक्‍लीयर चीफ ने ‘परमाणु आतंकवाद’ करार दिया