नई दिल्ली: दिल्ली के जामिया नगर में CAA विरोधी प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने वाला युवक सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश में दक्षिणपंथी संगठनों के दो लोगों की हत्या से संबंधित वीडियो और सामग्री देखता रहता था और इससे उसके अंदर गुस्से की भावना घर कर गई थी. पुलिस ने यह जानकारी दी. Also Read - दिल्ली: बंदरों के इस्तेमाल से कर रहे थे लूटपाट, पुलिस ने जाल बिछा ऐसे दबोचे अपराधी

पुलिस के एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि वह सीएए के खिलाफ प्रदर्शनों की खबरें भी पढ़ता था और इन प्रदर्शनों को ‘राष्ट्र विरोधी गतिविधियां’ मानता था. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पूछताछ में उसने बताया कि वह उत्तर प्रदेश के जेवर के अपने गृह नगर से बस से दिल्ली आया और फिर ऑटो लेकर जामिया के प्रदर्शन स्थल पहुंचा. उसकी योजना वहां से शाहीन बाग जाने की थी. वह अपने बैग में देसी कट्टा रखकर आया था और प्रदर्शन स्थल से पांच बार लाइव किया था. फेसबुक पेज पर उसकी कवर फोटो में वह तलवार लिए नजर आ रहा है. Also Read - Delhi: नेशनल मीडिया सेंटर के बाहर संदिग्‍ध वस्‍तु म‍िली, बम स्‍क्‍वॉड और डॉग स्‍क्‍वॉड की टीमें मौके पर मौजूद

अधिकारी ने कहा कि वह जामिया और शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शनों से गुस्सा था और उन्हें “राष्ट्र विरोधी’ मानता है. उसका मानना है कि ऐसे प्रदर्शनों से लोगों को असुविधा होती है. अपने फेसबुक प्रोफाइल में उसने जिक्र किया था कि वह ‘‘चंदन भाई’’ का बदला ले रहा है. उसकी प्रोफाइल अब डिलीट हो चुकी है. माना जा रहा है कि चंदन भाई वह संभवत: चंदन गुप्ता के लिए इस्तेमाल कर रहा है जिसे उत्तर प्रदेश के कासगंज में 2018 में गणतंत्र दिवस के दिन मोटरसाइकिल रैली निकाले जाने के दौरान गोली मारी गई थी, बाद में उसकी मौत हो गई थी. Also Read - Delhi में Corona के नियमों का पालन न करने वालों की खैर नहीं, अब कटेगा चालान, होगी FIR

अधिकारी ने बताया कि आरोपी हिंदू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की हत्या से भी गुस्सा था. तिवारी की 18 अक्टूबर को लखनऊ में हत्या कर दी गई थी.