नई दिल्ली: एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की सोमवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक आप सरकार में दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत सबसे अमीर मंत्री हैं. एडीआर ने एक बयान में कहा है कि दिल्ली इलेक्शन वॉच और एडीआर ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सहित पार्टी के सभी सात नेताओं के हलफनामों का विश्लेषण किया है. बयान के अनुसार इस घोषणा के अनुसार सबसे कम संपत्ति वाले मंत्री गोपाल राय हैं. उनकी संपत्ति 90.01 लाख रुपये है. बयान के मुताबिक सबसे धनी मंत्री कैलाश गहलोत हैं, जिसकी कुल संपप्ति 46.07 करोड़ रुपये है. Also Read - Delhi Metro Latest News: दिल्ली में 10 से 17 मई तक नहीं चलेगी मेट्रो, जानें और क्या-क्या लगाई गई पाबंदियां...

आपको बता दें कि दिल्ली की पिछली सरकार में परिवहन व पर्यावरण विभाग का कार्यभार संभालने वाले कैलाश गहलोत ने इस बार भी मंत्री पद की शपथ ली है. कैलाश ने इस बार नजफगढ़ विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी के अजित सिंह खरखरी को हरा कर जीत हासिल की है. Also Read - Lockdown Extended In Delhi: दिल्ली में बढ़ा लॉकडाउन, अब 17 मई तक रहेंगी पाबंदियां- कल से मेट्रो भी नहींं चलेगी

कैलाश गहलोत

इसी बीच दिल्ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने मंत्र‍ियों के बीच विभागों का बंटवारा भी कर दिया है. दिल्ली सरकार में पोर्टफोलियो आवंटन को अंतिम रूप दिया गया है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल किसी भी विभाग का कार्यभार नहीं संभालेंगे. सत्येंद्र कुमार जैन के अधीन दिल्ली जल बोर्ड (डीजेबी) होगा. एनएनआई के मुताबिक, मनीष सिसोदिया को एक बार फिर डिप्‍टी सीएम बनाया गया है और उन्‍हें सबसे ज्‍यादा विभागों की जिम्‍मेदारी भी दी गई है. मनीष सिसोदिया एक बार फिर उपमुख्यमंत्री होंगे. एएनआई के मुताबिक, उन्हें शिक्षा, वित्त, योजना, भूमि और भवन, सतर्कता, पर्यटन, सेवा, कला, संस्कृति और भाषा विभाग आवंटित किए गए हैं. केजरीवाल कोई भी व‍िभाग नहीं लेंगे. Also Read - Delhi Lockdown Update: देश की राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन बढ़ना तय! आज CM केजरीवाल कर सकते हैं ऐलान

गोपाल राय को पर्यावरण विभाग आवंटित किया गया है और राजेंद्र पाल गौतम को महिला एवं बाल विकास विभाग आवंटित किया गया है. सत्‍येंद्र जैन के पास महत्वपूर्ण लोक निर्माण विभाग, स्वास्थ्य, बिजली और शहरी विकास विभागों के अलावा अब दिल्ली जल बोर्ड का कार्यभार भी रहेगा. पर्यावरण विभाग पहले परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के पास था, जबकि महिला एवं बाल विकास विभाग वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया के पास था.

 

इनपुट-एजेंसी