नई दिल्‍ली: देश की विभिन्‍न बैंकों के 50 टॉफ डिफाल्‍टरों के साथ योग गुरु बाबा रामदेव के नाम का जिक्र करने को लेकर सीनियर वकील प्रशांत भूषण ने मांगी मांगी है. Also Read - दिल्ली हिंसा संबंधी प्रशांत भूषण की याचिका पर तुरंत सुनवाई से अदालत का इनकार

भूषण ने बुधवार को ट्वीट करते हुए कहा, बाबा रामदेव से माफी मांगी है. मैंने पहले एक पोस्‍टर ट्वीट किया था, जिसमें उन्हें एक डिफॉल्टर के रूप में भी उल्लेख किया था, जिनका लोन माफ किया गया था. यह पोस्‍टर एक पोर्टल द्वारा की गई स्‍टोरी पर आधारित है, जिसमें ‘रूचि सोया’ डिफॉल्टर का उल्लेख किया गया है और उससे जुड़ा हुआ है. अन्य जांच से पता चलता है कि वह केवल इसे खरीदने की कोशिश कर रहे हैं. Also Read - चुनावी बॉन्ड योजना के रोक पर सुप्रीम कोर्ट करेगा जनवरी में विचार, बेंच का निर्देश  

बता दें कि पिछले वित्त वर्ष की पहली छमाही में बैंकों का कर्ज नहीं चुकाने वाले शीर्ष 50 डिफाल्टरों का करीब 68,607 करोड़ रुपये का कर्ज बट्टे खाते में डाला गया है. इसमें रुचि सोया कंपनी का लोन भी शामिल है. इस कंपनी को पंतंजलि समूह खरीदने का प्रयास कर रहा है.

आरबीआई के मुताबिक, बैंकों का कर्ज नहीं लौटाने वाली शीर्ष 50 डिफाल्टर कंपनियों के 68,607 करोड़ रुपए के बकाये को तकनीकी रूप से बट्टे खाते में डाल दिया है. इसके लेकर विपक्षी दल कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाए हैं, जबकि मोदी सरकार की ओर से इस मामले को लेकर साफ किया गया है कि वास्‍तविक स्थिति क्‍या है.