नई दिल्लीः प्याज की लगातार बढ़ती कीमतों ने ज्यादातर रसोई घरों में स्वाद को फीका कर रखा है. कहीं कहीं तो यह हाल हो गया है कि लोगों ने खाने में प्याज पूरी तरह से बंद कर दिया है. अभी बाजार में प्याज 80 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई हैं. इससे पहले यह लगभग 65 रुपए किलो मिल रही थी. माना जा रहा है कि प्याज अभी और ज्यादा लाल होगी और यह अब रुलाएगी भी ज्यादा. एक जानकारी के अनुसार प्याज के दाम 120 रुपये तक पहुंच सकते हैं.

प्याज के बढ़े दामों में रोक लगाने के लिए सरकार लगातार प्रयास कर रही है. इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने मंगलवार को एक बैठक भी बुलाई. इस बैठक के बाद मंत्रालय ने जानकारी दी कि प्याज के आयात को बढ़ाने के लिए दूसरे देशों से मदद ली जाएगी. पभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा कि फैसला लिया गया है कि केंद्र सरकार ने प्याज के आयात को बढ़ावा दिया जाए.

अफगानिस्तान (Afghanistan), मिस्र (Egypt), तुर्की (Turkey) और ईरान (Iran) स्थित भारतीय मिशनों को भारत को प्याज की आपूर्ति के लिए कहा गया है. उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही 80 से 100 कंटेनरों में प्याज भारत (India) पहुंचेगी.

आवक कम होने की वजह से भारतीय बाजार में प्याज के दाम लगातार बढ़ रहे रहैं. प्याज विक्रताओं का कहना है कि बारिश के कारण आपूर्ति में कमी और फसल नष्ट होने से प्याज की कीमतों में वृद्धि देखने को मिल रही है. उत्तर प्रदेश के शहरों की बात की जाए तो लखनऊ प्याज 10 रुपए महंगी होने के साथ 65 रुपए प्रति किलो हो गई है. वहीं हल्द्वानी में प्याज की कीमतों में 20 रुपए प्रति किलो की बढ़ोतरी हुई है.