केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में एनडीए छोड़ने वाले शिरोमणि अकाली दल ने भाजपा पर तीखा हमला बोला है. शिअद ने भाजपा से पूछा कि उसने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की विचारधारा को क्यों ‘त्याग’ दिया है. गौरतलब है कि शिअद के इस बयान से एक दिन पहले ही भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव तरुण चुग ने शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल पर आरोप लगाया था कि वह किसानों के मुद्दे की आड़ में पंजाब में ‘जहर घोल रहे हैं और साम्प्रदायिक जूनून को बढ़ावा दे रहे हैं.’ Also Read - शिवपाल सिंह का बड़ा ऐलान, बोले- भाजपा से नहीं, सपा के साथ करेंगे गठबंधन

चुग, बादल के बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि भाजपा ‘असली टुकड़े-टुकड़े गैंग है.’ भाजपा नेता के बयान पर आश्चर्य जताते हुए शिअद के वरिष्ठ नेता प्रेम सिंह चंडूमाजरा ने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि पंजाब भाजपा ने फूट डालो और राज करो की कांग्रेस की नीति अपना ली है, इसका राज्य पर खराब ही प्रभाव होगा.’’ Also Read - सुशील मोदी का केंद्र में जाना, शाहनवाज हुसैन का बिहार आना, बीजेपी के इस कदम के क्या हैं सियासी मायने!

चंडूमाजरा ने एक बयान में भाजपा पर राज्य की शांति ‘‘भंग’’ करने के प्रयास का आरोप लगाते हुए कहा कि शिअद पंजाबियों से आग्रह करता है कि वे राज्य भाजपा द्वारा खेले जा रहे ‘‘खतरनाक खेल’’ को समझें. उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘तीन कृषि कानूनों को लागू करने के बाद हर तरह से खारिज कर दिए जाने के बाद वे सिर्फ अपना पैर जमाने के लिए एक भाई (सिख) को दूसरे भाई (हिन्दू) के खिलाफ लड़ाने की तैयारी कर रहे हैं.’’ Also Read - पूर्वी मिदनापुर में सुवेंदु अधिकारी की रैली से पहले TMC-भाजपा कार्यकर्ताओं में हिंसक झड़प, कई घायल

भाजपा नेताओं को केन्द्र के साथ लड़ने की सलाह देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘आपको अपने पार्टी नेतृत्व से पूछने की जरुरत है कि उन्होंने अटल बिहारी वाजपेयी की उदारवादी विचारधारा को क्यों त्याग दिया है और सबको साथ लेकर चलना क्यों भूल गए हैं.’’

(इनपुट भाषा)