मुहर्रम के दिन दुर्गा विसर्जन पर पाबंदी के फैसले को लेकर कोलकाता हाई कोर्ट की फटकार के बावजूद ममता बनर्जी के तेवर तल्ख बने हुए हैं. इस फैसले के बाद ममता ने कहा कि कोई मेरा गला चीर सकता है लेकिन ये नहीं कह सकता कि मुझे क्या करना है.Also Read - Tripura Civic Election Results: त्रिपुरा निकाय चुनाव में BJP चल रही आगे TMC पिछड़ी, LIVE Updates

ममता ने कहा कि राज्य में शांति बनाए रखने के लिए जो भी करने की जरूरत है, वो मैं करुंगी. ममता बनर्जी ने एक कार्यक्रम के दौरान ये बात कही.  हाई कोर्ट ने आज ही ममता सरकार के उस आदेश को पलट दिया जिसमें मुहर्रम के चलते 30 सितंबर को शाम 6 बजे तक और फिर 2 अक्टूबर को ही दुर्गा विसर्जन करने का आदेश दिया गया था. इस फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती दी गई थी. Also Read - करीना कपूर के बेटे जेह को क्या ममता बनर्जी ने अपनी गोद में उठाया? क्यों कह रहे हैं लोग ऐसा?

Also Read - Bank Holidays in August 2021: आज मुहर्रम पर बैंकों में रहेगी छुट्टी, जानिए- अभी और कितने दिन इस महीने बैंक रहेंगे बंद

बता दें कि कोलकाता हाई कोर्ट ने आज दुर्गा विसर्जन मामले पर पश्चिम बंगाल की ममता सरकार को कड़ी फटकार लगाई. कोर्ट ने कहा कि सरकार अपने अधिकारों का असीमित इस्तेमाल नहीं कर सकती है. सरकार बिना वजह असीमित अधिकार इस्तेमाल कर रही है. सरकार लोगों की आस्था में दखल नहीं दे सकती है.

Kolkata HC again pulls up Mamata govt over Durga visarjan | दुर्गा विसर्जन पर कोलकाता HC की ममता सरकार को फिर फटकार

Kolkata HC again pulls up Mamata govt over Durga visarjan | दुर्गा विसर्जन पर कोलकाता HC की ममता सरकार को फिर फटकार

बुधवार को भी सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने ममता सरकार की खिंचाई की थी. हाईकोर्ट ने कहा था कि सरकार लोगों को दुर्गा विसर्जन से रोक नहीं सकती. अदालत ने कहा कि जब सरकार मानती है कि राज्य में सौहार्द है तो ऐसा फैसला क्यों.

ममता बनर्जी ने 30 सितंबर की शाम 6 बजे से लेकर 1 अक्टूबर तक दुर्गा पूजा के बाद मूर्ति विसर्जन पर रोक लगाने का आदेश दिया था. आदेश के मुताबिक 2 अक्टूबर से मूर्ति विसर्जन किया जा सकता था. लेकिन ये फैसला आज पलट दिया गया.