Lockdown 5.0 in India: कोरोना वायरस ( Coronavirus) से निपटने के लिए देश में जारी लॉकडाउन की अवधि फिर से बढ़ा दी गई है. लॉकडाउन के चौथे चरण में सरकार ने कई तरह की छूट दी थीं, जिसके अब अब लॉकडाउन 5 को नए रूप में लागू किया जाएगा. जिसके तहत कई तरह की छूटें दी जाएंगी. यही कारण है कि लॉकडाउन 5.0 (Lockdown 5.0) को केंद्र सरकार ने अनलॉक 1 (Unlock 1) का नाम दिया है. अनलॉक 1 (Unlock 1) के लिए गृह मंत्रालय द्वारा नई गाइडलाईन जारी की गई है. जिसके तहत देश के कंटेनमेंट जोन में तो सभी पाबंदियां जारी रहेंगी, लेकिन अन्य इलाकों में छूट का दायरा बढ़ा दिया जाएगा. Also Read - कोरोना के हवा से फैलने के दावे से घबराएं नहीं, बस करिए ये काम, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ 

गृह मंत्रालय द्वारा 1 जून से 30 जून तक के लिए जारी की गई गाईडलाइन में लॉकडाउन से संबंधित कई बदलाव देखने को मिले. इस गाईडलाइन के मुताबिक, 2 महीने से अधिक समय से देश में बंद पड़े स्कूल-कॉलेज को खोलने की अनुमति दी जाएगी. भारत सरकार ने फिलहाल अभी स्कूल और कॉलेजो पर पाबंदी लगा रखी है लेकिन माना जा रहा है कि जुलाई से स्कूल खोल दिए जाएंगे. सरकार का मानना है कि जुलाई तक हालात और अधिक नार्मल हो जाएंगे. Also Read - कोरोना वायरस को हवा में मारने वाला फिल्टर बना, तो क्या अब प्लेन, क्लास रूम जैसी जगहों पर नहीं रहेगा डर?

गैर कंटेनमेंट जोन में स्कूल, कॉलेज, धार्मिक स्थल, होटल, रेस्टोरेंट, और अन्य सेवाओं को चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा और सभी जगह सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करना सबसे अनिवार्य काम होगा. Also Read - ENG vs WI: विंडीज ने 32 साल पहले जीती थी इंग्‍लैंड में आखिरी टेस्‍ट सीरीज, जानें क्‍या कहते हैं आंकड़े !

इसके तहत 8 जून से शॉपिंग मॉल, मंदिर और रेस्टोरेंट जैसी सार्वजनिक जगहों पर जाया जा सकेगा, बशर्ते ये कंटेनमेंट जोन में ना आते हों. लेकिन, यहां जाते समय सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना संक्रमण से बचाव के अन्य उपायों का पालन किया जाना आवश्यक होगा.

अनलॉक 1 में केंद्र शासित प्रदेशों में शैक्षणिक संस्थान कॉलेज, स्कूल और कोचिंग सेंटर जैसी जगहें यहां की सरकार की अनुमति के बाद ही खोले जा सकेंगे. साथ ही छात्रों के माता-पिता से भी इस पर बात हो सकती है.

बता दें अनलॉक 1 में सभी इलाकों को खोलने और ना खोलने का फैसला चरणबद्ध तरीके से लिया जाएगा. जिसके लिए तीन चरण निर्धारित किए गए हैं. दिल्ली-एनसीआर में मेट्रो सेवा पर निर्णय तीसरे चरण में लिया जाएगा. जो कि पूरी तरह से यहां कि स्थितियों पर निर्भर होगा. फिलहाल, यहां आने-जाने के लिए लोगों को ऑटो रिक्शा, पर्सनल वाहन या फिर कैब सुविधा का ही ऑप्शन होगा. यही नहीं, जिम और स्वीमिंग पूल जैसी जगहों को खोलने का भी फैसला अभी नहीं लिया गया है.