लातेहार (झारखंड): सात फेरे हुए. शादी हुई, इसके बाद दूल्हा दुल्हन को लेकर ससुराल की ओर बढ़ रहा था. दोनों कार में थे, तभी एक पुलिया पार करते समय पानी का इतना तेज़ बहाव आया कि दूल्हा-दुल्हन की कार बह गई. दोनों काफी देर तक कार में बंद रहे और कार पानी में तैरती है. मामला झारखंड के पलामू जिले के सतबरवा प्रखंड में मलय नदी की पुलिया का है. पुलिस के अनुसार, खामडीह गांव में मलय नदी का छलका पुलिया पार करते समय पानी के तेज धार में वर -वधू समेत छह लोग कार समेत बह गये. ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत कर आधा किलोमीटर दूर जा चुके कार में सवार वर-वधू समेत छह बारातियों का रेस्क्यू अभियान चलाकर सकुशल निकाल लिया.Also Read - jharkhand News : झारखंड में Lockdown जैसे प्रतिबंध 31 जनवरी तक बढ़े, जानें क्‍या-क्‍या बंद रहेगा

पुलिस के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि लेस्लीगंज थाना क्षेत्र के ग्राम रजहारा के रामलगन सिंह के पुत्र विजय सिंह की शादी लातेहार जिले के मनिका थाना के माईल मटलौंग गांव निवासी खुशबू कुमारी के साथ सतबरवा के एक मंदिर में शनिवार को संपन्न हुई थी. Also Read - Corona in Jharkhand: एक ही दिन में दुमका के स्कूलों के 39 बच्चे, तीन टीचर संक्रमित पाए गए

शाम को दूल्हा अपनी दुल्हन को लेकर कार से अपने गांव लौट रहा था. उस कार में वर-वधू के साथ कुल छह लोग सवार थे. लौटते समय खामडीह-बोहिता मार्ग के बीच मलय नदी के झरीवा छलका पुलिया पार पानी उपर से बह रहा था. कार पार करते समय कार पानी के दबाव को नहीं झेल सकी और तेज बहाव में बह गई. ग्रामीणों ने तत्काल लोगों को बचाने की पहल प्रारंभ कर दी. पानी के तेज बहाव में कार आधा किलोमीटर आगे जा चुकी थी. इस दौरान खामडीह और नावाटोली के ग्रामीणों ने ‘जुगाड़ तकनीक’ से कार को बाहर निकाल लिया और सभी लोगों की जान बच गई. Also Read - झारखंड: फंदे पर लटका मिला पुलिस अफसर का शव, सड़कों पर उतरे लोग, बवाल

रेस्क्यू टीम में शामिल ब्लॉक डेवलपमेंट कमिटी के सदस्य राजकुमार सिंह ने बताया कि हमलोगों का एकमात्र उद्देश्य पानी में बहती कार पर सवार लोगों की जान बचाना था. बहते पानी की तेज धार में कार को रोकने का प्रयास किया जाता रहा, लेकिन सफलता आधा किलोमीटर दूर जाने पर नावाटोली में मिली. यहां पर कार को रोक दिया गया और ग्रामीणों के सहयोग से रस्सी लाया गया और फिर कार को रस्सी से निकाल लिया गया. मौके पर बारी पंचायत के मुखिया रामाशीष सिंह ग्रामीणों के जत्था को मॉनिटरिंग कर लोगों को आवश्यक निर्देश देते देखे गये. सिंह ने बताया कि छलका पुलिया से बह रही कार में छह लोग सवार थे. इनमें नवविवाहित जोड़े के साथ तीन बच्चे और कार का ड्राईवर शामिल था. सभी को कार से सकुशल निकाला गया था. इसके बाद वर-वधू और बच्चे को उनके घर रजहारा भेज दिया गया.

इधर, कार पर सवार दुल्हा विजय सिंह ने ग्रामीणों का आभार जताते हुए कहा कि यहां के ग्रामीणों के कारण हम सबों की जान बची है. आज ये नहीं होते तो हमसभी की मौत तय थी. इस घटना के बाद लोग ग्रामीणों के साहस की चर्चा चहुंओर है और लोग गांव के लोगों की सराहना कर रहे हैं.