नई दिल्ली. पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद यात्रियों की संख्या में विशेषतौर पर आई भारी कमी आने तथा सीमा के पार इस सेवा को निलंबित कर दिए जाने के चलते रेलवे ने भारत पाकिस्तान समझौता एक्सप्रेस ट्रेन के परिचालन को स्थगित करने का फैसला किया है. सूत्रों ने यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि इन सेवाओं की बहाली की कोई तारीख तय नहीं की गई है. सूत्रों के अनुसार रेलवे बोर्ड ने अटारी स्पेशल एक्सप्रेस, दिल्ली-अटारी-दिल्ली, जो वाघा-लाहौर लिंक के साथ मिलकर समझौता या फ्रेंडशिप एक्सप्रेस नाम से जानी जाती है, के सभी परिचालनों को उसके अगले फेरे के दिन रविवार से रद्द कर दिया है. इससे पहले दिन में पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने एक बयान में कहा था कि पाकिस्तान और भारत के बीच वर्तमान स्थिति के मद्देनजर ट्रेन परिचालन गुरुवार को स्थगित कर दिया गया. देनों देशों के बीच यह ट्रेन सेवा 22 जुलाई 1976 को शुरू हुई थी. Also Read - आतंकी Masood Azhar के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी, पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड है JeM प्रमुख

Also Read - पुलवामा हमले को देश कभी नहीं भूल सकता,  मैंने भद्दी राजनीति झेली लेकिन अब विरोधी बेनकाब: PM मोदी

पाकिस्तान ने रोकी समझौता एक्सप्रेस रेल सर्विस, आज से ही नहीं होगी रवाना Also Read - आर्मी ने 52 किलो विस्फोटक बरामद करके कश्मीर में पुलवामा जैसा बड़ी आतंकी हमला टाला

अधिकारियों ने बताया कि 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले के बाद दोनों देशों के संबंधों में आए तनाव और इसके बाद के घटनाक्रमों के बीच पाकिस्तान अपने यहां से इसके परिचालन को पहले ही स्थगित कर चुका है. सूत्र ने कहा, ‘‘पाकिस्तान से कोई यात्री नहीं होने के चलते इस तरफ इसे चलाने का कोई तुक नहीं है. आशा है कि तनाव घट जाने के बाद हम इस सेवा को बहाल कर पाएंगे.’’ सूत्रों के अनुसार समझा जाता है कि दोनों देशों के करीब 40 यात्री अटारी में फंसे हुए हैं.

पाकिस्तान ने बुधवार को अपनी ओर वाघा-लाहौर रेल मार्ग पर ट्रेन के फेरे रद्द कर दिए थे, जबकि 27 यात्री भारतीय ट्रेन से पुरानी दिल्ली से अटारी पहुंचे थे. उनमें 23 भारतीय यात्री और तीन पाकिस्तानी यात्री थे. यह ट्रेन बुधवार रात को 11 बजकर 20 मिनट पर नई दिल्ली से रवाना हुई थी. अधिकारियों के अनुसार वाघा स्टेशन मास्टर ने अपने अटारी समकक्ष को संदेश भेजा कि यात्री और पार्सल ट्रेन जो पाकिस्तान की तरफ से अटारी तक आती है, अगले आदेश तक नहीं आएगी.

(इनपुट – एजेंसी)