Corona Virus News: कोरोना वायरस की दूसरी लहर लगातार कहर बरपा रही है. प्रतिदिन के आंकड़े अब डरावने लग रहे हैं. लेकिन इसके साथ ही देश में टीकाकरण का अभियान भी चल रहा है, जिसे अब 18 से अधिक उम्र के लोगों के लिए भी शुरू कर दिया गया है. बता दें कि देश में हर रोज लाखों लोग कोरोनाे के शिकार हो रहे हैं. वहीं कोरोना से संक्रमित लोग प्रतिदिन काफी संख्या में ठीक भी हो रहे हैं.  कोरोना संक्रमण से ठीक हो चुके मरीजों के मन में यह सवाल पैदा हो रहा है कि वे कब और कैसे इसी वैक्सीन लगवा सकते हैं? क्या कोरोना से रिकवर मरीजों के वैक्सीनेशन के लिए कोई खास निर्देश हैं?Also Read - Omicron In India: तेजी से फैल रहा है ओमिक्रॉन का नया वेरिएंट Centaurus, जानिए कितना है खतरनाक

इस बारे में डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना से रिकवर मरीज को वैक्सीन लगवाने के लिए कम-से-कम 6 हफ्तों का इंतजार करना जरूरी है और यदि कोरोना से रिकवर हुए मरीज ने वैक्सीन का पहला डोज लगावाया है तो दूसरा डोज लगवाने के लिए भी मरीज को 6 हफ्तों का इंतजार करना जरूरी है. Also Read - ओमिक्रॉन वेरिएंट पर भी असरदार होगा टीका, मॉडर्ना की अपडेटेड वैक्सीन को मंजूरी देने वाला पहला देश बना ब्रिटेन

जिस दिन मरीज के कोरोना संक्रमण के लक्षण खत्म हो जाते हैं उसके 6 से 8 हफ्तों के बाद मरीज टीका लगवा सकता है. डॉक्टर बताते हैं कि कोरोना मरीजों के टीकाकरण की प्रक्रिया भी आम टीकाकरण की प्रक्रिया की तरह ही होती है. Also Read - पंजाब में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क अनिवार्य, कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार का फैसला

अगर आप कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक हो गए हैं तो ठीक होने के तुरंत बाद ही अगर टीका लगवाने जाते हैं तो आपके शरीर में एंटीबॉडी बनने में दिक्कत होती है. डॉक्टर बताते हैं कि जब मरीज कोरोना से ठीक हो जाते हैं तो उनके शरीर में एंटीबॉडी बनने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है, वैक्सीन भी शरीर में जाकर एंटीबॉडी ही बनाती है. लेकिन अगर शरीर में पहले सी ही वह प्रक्रिया चल रही होगी तो दिक्कत हो सकती है. इसीलिए आपको  6 हफ्तों का इंतजार करना चाहिए.

इसके अलावा वैक्सीन लगवाने के बाद भी लोगों को कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करना बेहद जरूरी है. वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को लगता है कि वह सुरक्षित ह गया है लेकिन वैक्सीन लगवाने के 2 से 6 हफ्ते के बाद ही व्यक्ति सुरक्षित होता है. अगर वैक्सीन लगवाने के बाद कोई व्यक्ति संक्रमण के संपर्क में आता है तो उसके संक्रमित होने का खतरा रहता है, इसलिए वैक्सीन लगगवाने के बाद भी कोरोना गाइडलाइन्स का पालन करना जरूरी है.