श्रीनगर. जम्मू एवं कश्मीर के लोग राज्य का विशेष दर्जा हटने के बाद भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सोमवार को पहली ईद मना रहे हैं. राज्य प्रशासन ने नमाज की व्यवस्था की देखरेख करने को लेकर और यह त्योहार शांतिपूर्ण ढंग से मनाया जा सके इसके लिए स्थानीय मौलवियों के साथ बैठक भी की. अधिकारियों ने रविवार को कहा था कि लोगों को उनके घरों के नजदीक वाली मस्जिदों में जाने और नमाज पढ़ने की छूट होगी. घाटी में बकरीद से पहले खरीदारी के लिए दी गई छह घंटों की ढील के दौरान लोग बाजारों में खरीदारी करते देखे गए. आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को केन्द्र सरकार द्वारा समाप्त किए जाने के बाद से घाटी में प्रतिबंध लगे हुए हैं, जिससे जनजीवन प्रभावित है.

जम्मू-कश्मीर के प्रधान सचिव (योजना आयोग) रोहित कंसल ने सोमवार को किए गए ट्वीट में बताया कि बकरीद के मौके पर जम्मू के ईदगाहों में 5 हजार से अधिक नमाजियों ने नमाज अदा की. कश्मीर घाटी से भी किसी भी तरह की अप्रिय घटना का समाचार नहीं है. कंसल ने ट्वीट के जरिए बताया कि बारामुला, रामबाण, शोपियां, अवंतीपोरा, श्रीनगर और अन्य इलाकों में शांतिपूर्ण तरीके से बकरीद की नमाज अदा की गई. उन्होंने बताया कि ईद-उल-जुहा के मौके पर कुर्बानी के लिए प्रदेशभर की 8 मंडियों में ढाई लाख पशुओं का इंतजाम किया गया है. कोषागार से प्रदेश के बैंकों के लिए दो-तीन दिन पहले ही 500 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं, ताकि त्योहार के मौके पर सरकारी कर्मचारियों के वेतन और भत्ते दिए जा सकें. प्रदेश के कई स्थानों पर लगाए गए प्रतिबंध में सोमवार को छूट दी गई है.

इससे पहले शांतिपूर्ण ईद मनाने को लेकर मौलवियों और कश्मीर डिवीजनल कमिश्नर बशीर खान, पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर) स्वयं प्रकाश पानि और श्रीनगर के जिला मजिस्ट्रेट शाहिद चौधरी के बीच रविवार को एक बैठक हुई थी. चौधरी ने नमाज अदा करने वाले स्थानों, कुछ मस्जिदों और मैदानों का दौरा किया. उन्होंने कहा कि वे असुविधा को कम करने और सुविधाओं को सुचारू करने की कोशिश कर रहे थे. उन्होंने ट्वीट किया, “मैं सच्चाई से वाकिफ हूं कि एक शांतिपूर्ण और सुखद ईद के लिए काफी कुछ करने की आवश्यकता है. हम असुविधाओं को कम करने की कोशिश कर रहे हैं और व्यवस्थाओं को सुचारू करने का प्रयास कर रहे हैं. नमाज की व्यवस्था के लिए इमामों के साथ एक विस्तृत बैठक भी की गई.”

उन्होंने यह भी कहा कि श्रीनगर में 250 से अधिक एटीएम मशीनों को खोला गया है और बैंक शाखाएं भी खुली हैं. बशीर खान ने कहा कि ईद को शांतिपूर्ण बनाने के लिए प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है. इसके साथ ही जम्मू एवं कश्मीर प्रशासन ने पिछले कुछ दिनों से लोगों को ईद की खरीदारी करने के लिए कश्मीर घाटी में लागू निषेधाज्ञा में ढील भी दी थी. जम्मू एवं कश्मीर पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट के जरिए बताया गया, “राज्य में अब तक स्थिति सामान्य बनी हुई है. अभी तक कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं मिली है.”