जम्मू: केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने रविवार को कहा कि सुरक्षा बलों की तरफ से चिंता जताए जाने के बाद बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती निवासियों को सुरक्षित स्थानों पर जमीन मुहैया कराए की योजना छोड़ दी है.Also Read - भारतीय सेना को पहली बार मिल रहा है ऐसा सुरक्षा कवच, जवानों को छू नहीं पाएगी 'हड्डियां गला देने वाली ठंड'

Also Read - Indian Army Recruitment 2022: भारतीय सेना में अग्निवीरों के लिए आई भर्ती, रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू, जानें क्या चाहिए योग्यता

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेन्द्र सिंह ने कहा, ‘सुरक्षा बलों ने वास्तविक चिंता जताई कि इससे सीमावर्ती क्षेत्र खाली हो जाएंगे. हमने कई वर्षों तक यह मांग उठाई लेकिन जब समय आया तो हमें योजना छोड़नी पड़ी.’ पार्टी के शक्ति केंद्र प्रमुख सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कठुआ के उपायुक्त कार्यालय में लाभार्थियें की ऐसी सूची अब भी पड़ी हुई है, जहां बीजेपी ने जमीन मुहैया कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी. 

AFSPA पर किसी पुनर्विचार का समय नहीं आया: सेना प्रमुख

AFSPA पर किसी पुनर्विचार का समय नहीं आया: सेना प्रमुख

Also Read - अग्निपथ योजना के तहत वायुसेना को सात दिन में मिले इतने लाख आवेदन, जल्दी शुरू होगी भर्ती प्रक्रिया

उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों की चिंता जायज है, हमारी सोच भावनाओं पर आधारित थी. हम सुरक्षा बलों का सम्मान करते हैं और अगर उनकी कोई चिंता है तो यह हमारी भी चिंता है. उन्होंने कहा कि केंद्र ने जम्मू संभाग में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय रेखा के पास रह रहे लोगों की सुरक्षा के लिए 415 . 73 करोड़ रुपये की लागत से 14400 से ज्यादा भूमिगत बंकरों के निर्माण को तुरंत मंजूरी दे दी.