नई दिल्ली: सरकार ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के बाद पयर्टन बढ़ने के सवाल पर मंगलवार को संसद में कुछ भी कहने से यह कहकर इनकार कर दिया कि इस बारे में कोई ‘‘अध्ययन एवं आंकड़े’’ नहीं हैं. संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी. उनसे यह पूछा गया था कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण से पर्यटन में क्या कई गुना वृद्धि हो सकती है? पटेल ने कहा, ‘‘इस संबंध में किसी अध्ययन एवं आंकड़ों के अभाव में कुछ नहीं कहा जा सकता.’’

उद्धव ठाकरे ने बदला रुख, नागरिकता बिल को समर्थन देने को लेकर कही ये बात

उल्लेखनीय है कि राम जन्मभूमि स्वामित्व मुद्दे पर दशकों तक चले विवाद का पटाक्षेप करते हुए उच्चतम न्यायालय ने नौ नवंबर को अपना निर्णय सुनाया था जिससे अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रश्स्त हो गया.

VIDEO: लोकसभा में ‘कैब’ को मंजूरी, पाकिस्‍तान से आए शरणार्थी हिंदुओं ने ऐसे मनाया जश्‍न

पटेल ने बताया, ‘‘वर्ष 2017-18 में 133.31 करोड़ रूपये की लागत से स्वदेश दर्शन योजना के रामायण परिपथ विषय के अंतर्गत अयोध्या का विकास’’ स्वीकृत किया गया था. ताजा जानकारी के अनुसार संस्कृति एवं पर्यटन मंत्रालय द्वारा इस परियोजना के लिए 99.21 करोड़ रूपये की राशि जारी की गयी है.