भारत की स्वदेश निर्मित परमाणु-सक्षम अंतर-महाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का गुरुवार को सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया. यह बीजिंग तक की दूरी पर अपने लक्ष्य को निशाना बनाने में सक्षम है. परीक्षण ओडिशा के तट से किया गया. अग्नि-वी अग्नि मिसाइल सीरीज का सबसे उन्नत संस्करण है जो 1960 में शुरू हुए इंटीग्रेटेड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम का हिस्सा है.इस मिसाइल के साथ ही भारत अमेरिका, रूस, ब्रिटेन, फ्रांस और चीन के साथ आईसीबीएम क्षमताओं वाले देशों में शामिल हो गया है. Also Read - अग्नि-2 बैलिस्टिक मिसाइल का पहला रात्रि परीक्षण सफल, 2000 किमी तक प्रहार करने की क्षमता

Also Read - भारत की ताकत बढ़ी, परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम ‘अग्नि-5’ का सफल परीक्षण

खासियत: Also Read - Pakistan buys powerful missile tracking system from China । पाकिस्तान ने चीन से खरीदी शक्तिशाली मिसाइल ट्रैकिंग प्रणाली

agni 12

-अग्नि-5 मिसाइल अग्नि श्रृंखला की सर्वाधिक आधुनिक मिसाइल है जो नौवहन, दिशा-निर्देशन, आयुध और इंजन के लिहाज से नई प्रौद्योगिकियों से लैस है.

अग्नि-5 मिसाइल का कामयाब परीक्षण, जद में होगा चीन का उत्तरी हिस्सा

अग्नि-5 मिसाइल का कामयाब परीक्षण, जद में होगा चीन का उत्तरी हिस्सा

-यह मिसाइल 17 मीटर ऊंची है, जिसका व्यास 2 मीटर है. मिसाइल का वजन 50 टन है और यह डेढ़ टन तक परमाणु हथियार लाने-ले जाने की क्षमता रखती है.

-अग्नि के इससे पहले 3 टेस्ट हुए हैं. पहला-19 अप्रैल 2012, दूसरा 15 सितम्बर 2013 और तीसरा 31 जनवरी 2015.

यह मिसाइल 5000 किमी. तक मार कर सकती है. वहीं, भारत के पड़ोसी मुल्क चीन की DF-31A 11200 किमी. तो पाक की शाहीन 2500 किमीं. तक हमला करने में सक्षम है.

Agni-V-test

भारत के पास पृथ्वी-||(350km), अग्नि-| (700km), अग्नि-||(2000km) और अग्नि है. वहीं न्यूक्लियर हथियारों से लैस INS अरिहंत भी जल्द ही गश्ती मिशन पर निकलेगा.