नई दिल्ली। भारत ने अपनी महत्वाकांक्षी अग्नि मिसाइल का एक और ट्रायल किया है. आज सुबह 10.22 बजे ओडिशा तट के एपीजे अब्दुल कलाम परीक्षण रेंज से अग्नि 2 बैलिस्टिक मिसाइल का प्रायोगिक परीक्षण किया गया. इसकी मारक क्षमता 2000 किलोमीटर है. यानि की समूचा पाकिस्तान इसकी जद में होगा. Also Read - Dr APJ Abdul Kalam Birth Anniversary: मिसाइल ही नहीं Heart Stent बनाकर दुनिया को बताया क्या चीज थे अब्दुल कलाम, जानिए उनकी 5 उपलब्धियां

अग्नि 2 मिसाइल मीडियम रेंज बैलिस्टिक मिसाइल (MRBM) श्रेणी की है. इस मिसाइल की री एंट्री व्हीकल (RV) में दो सॉलिड फ्यूल स्टेज और एक पोस्ट बूस्ट व्हीकल लगा होता है. री एंट्री व्हीकल (RV)  कार्बन-कार्बन कम्पोजिट मैटेरियल से बना हुआ है जो री एंट्री व्हीकल (RV) उच्च ताप को संभालने में सक्षम होता है. Also Read - A.P.J Abdul kalam Birthday Anniversary : हम सब के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम

बता दें कि 2014 में अग्नि-2 इंटरमीडिएट रेंज बैलिस्टिक मिसाइल (आईआरबीएम) का परीक्षण किया गया था. रक्षा सेवाओं में पहले ही इसे शामिल किया जा चुका है. यह रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा उपलब्ध करवाए गए साजो-सामान के साथ किए जाने वाले प्रशिक्षण अभ्यास का हिस्सा है. Also Read - ब्रह्मोस मिसाइल का किया गया सफल परीक्षण, 400 किमी की है मारक क्षमता

इसी तरह नवंबर 2016 में ओडिशा तट से ही अग्नि 1 का सफल परीक्षण किया गया था. यह 700 किमी. तक मार कर सकती है. इस परीक्षण को ओडिशा के तट पर स्थित परीक्षण रेंज से अंजाम दिया गया.