नयी दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री रामशंकर कठेरिया को राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग का अध्यक्ष और बीजेपी के अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय सचिव एल मुरूगन को उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है. प्रधानमंत्री कार्यालय ने पदों के लिए नामों को मंजूरी दी थी जिसके बाद राष्ट्रपति ने उनकी नियुक्तियों को मंजूरी दे दी. आगरा से बीजेपी सांसद कठेरिया को पिछले साल जुलाई में मंत्रिपरिषद से बाहर कर दिया गया था. उनपर अपने स्नातक और स्नातकोत्तर अंक पत्रों से जालसाजी का आरोप है. Also Read - कांग्रेस में शामिल हुए भाजपा के सांसद, कभी CM योगी के खिलाफ लिखा था PM मोदी को पत्र

अपने कथित नफरत भरे भाषण के लिए पिछले साल वह फरवरी में विवादों में घिरे थे. सांसद ने सभी आरोपों से इंकार किया था. तेलंगाना से के रामुलू, बिहार से योगेंद्र पासवान और उत्तराखंड से स्वराज विदवान को आयोग का सदस्य नियुक्त किया गया है. Also Read - BJP उम्‍मीदवार रामशंकर कठेरिया बोले, 'केंद्र-राज्य में हमारी सरकार, किसी ने अंगुली दिखाई तो तोड़ देंगे'

पूर्व अध्यक्ष, कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य पी एल पुनिया का कार्यकाल अक्तूबर 2016 में खत्म हो गया जबकि पूर्व उपाध्यक्ष राज कुमार वेरका छह महीने पहले सेवानिवृत्त हो गए. पिछले साल नवंबर में राजू परमार ने आयोग के सदस्य के तौर पर अपना कार्यकाल पूरा किया जबकि ईश्वर सिंह और पी एम कमालम्मा का कार्यकाल मार्च में खत्म हो गया. Also Read - यह पाकिस्तान नहीं है, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय को आरक्षण कोटे का पालन करना होगा: रामशंकर कठेरिया