ऑगस्‍टा वेस्टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदे में हुए घुस के खुलासे के बाद भारतीय सियासी गलियारों में आग सी लग गई है। इस हेलीकॉप्‍टर सौदे में इटली की कोर्ट के फैसले में भारतीय नेताओं के साथ अन्य लोगो को रिश्वत देने की बात सामने आई है। वहीं इस मामले को गर्माता देख केंद्र सरकार अब अगस्ता वेस्टलैंड मामले में यूपीए सरकार के समय रक्षामंत्री रहे एके एंटनी को घेरने की तैयारी में है। अपना शिकंजा कसने के लिए सरकार डील से जुडी लगभग 40 से ज्यादा फाइलों को खंगाल चुकी है उच्च अधिकारियों के टीम के साथ मिलकर। Also Read - हेलिकॉप्टर घोटाले का दूसरा आरोपी अकाउंटेंट राजीव सक्सेना भी भारत लाया गया, वकीलों का आरोप- प्रत्यर्पण में नियमों का उल्लंघन

Also Read - कोर्ट ने सीएम केजरीवाल, सिसोदिया समेत 11 एमएलए को पेश होने के लिए भेजा नोटिस

जांच कर रही टीम में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय के लोग शामिल हैं। वहीं दूसरी तरफ इस घोटाले से जुड़े दूसरे बड़े नाम पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी को समन हेलीकॉप्‍टर सौदे मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भेजा है। ऑगस्‍टा वेस्टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदे में ईडी ने दावा किया है कि उसने इस नेताओं, ब्यूारोक्रेट्स, एयरफोर्स के अधिकारियों की पहचान की है। आपको बता दें की यह वह लोग है जिन्हे इस सौदे के दौरान पैसा मिला है। वहीं पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी को समन भेजने के पीछे यह कारण है की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है की पूर्व वायुसेना प्रमुख के तीन रिश्तेदारों, संदीप, राजीव और संजीव के पास पैसा पहुंचा। यह भी पढ़ें: इटली: कोर्ट ने कहा- चॉपर डील में हुआ घोटाला, पूर्व एयरफोर्स चीफ का नाम भी शमिल Also Read - राफेल डील: कांग्रेस को दिखता है बोफोर्स के दाग धोने का जरिया, भाजपा के लिए बेदाग रिकॉर्ड बनाए रखने की चुनौती

ऑगस्‍टा वेस्टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदे का पूरा मामला:

ऑगस्‍टा वेस्टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदा एयरफोर्स के द्वारा फरवरी 2010 में इटली की कंपनी अगस्ता से हुआ था। यह डील भारतीय एयरफोर्स और इटली की कंपनी अगस्ता के बीच 3600 करोड़ में 12 हेलिकॉप्टरों का सौदा हुआ था। जिसमे कहा जा रहा है की इसका 10 फीसदी हिस्सा जोकि करीब 350 करोड़ रुपए घूस की तरह इस्तेमाल किया गया है। इस डील के समय केंद्र में यूपीए की सरकार थी और एयरफोर्स चीफ एसपी त्यागी थे।

आपको बता दें की यह ऑगस्‍टा वेस्टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदा घोटाला साल 2012 में सबके सामने आया था। वहीं इस घोटाले की पुष्टि करते हुए 2013 में तत्कालीन रक्षा मंत्री एके एंटनी ने भ्रष्टाचार की बात कबूल करते हुए इस सौदे को रद्द कर दिया था। भारत ने यह सौदा अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी से किया था और हेलीकॉप्‍टर बनाने वाली कंपनी का नाम है फिनमेकेनिका। टेंडर की शर्तें बदलने के एवज में फिनमेकेनिका कंपनी ने पूर्व वायुसेनाध्यक्ष एसपी त्यागी के साथ उनके तीन रिश्तेदारों को घूस दी थी।