दिल्ली की एक स्थानीय अदालत ने सोमवार को पूर्व वायुसेना (आईएएफ) प्रमुख एस.पी.त्यागी को जमानत दे दी। त्यागी पर अगस्तावेस्टलैंड हेलीकॉप्टर सौदे में रिश्वत लेने का आरोप है। इस मामले में संजीव त्यागी और गौतम खेतान भी आरोपी हैं लेकिन उन्हें अभी जमानत नहीं मिली है। 4 जनवरी को उनकी ज़मानत याचिका पर सुनवाई होगी।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत के न्यायाधीश अरविंद कुमार ने त्यागी की जमानत याचिका स्वीकार करते हुए उन्हें दो लाख रुपये के निजी बांड और इतनी ही राशि के मुचलके भरने के निर्देश दिए। अदालत ने साथ ही हिदायत दी हैं की वह सबूत और गवाहों के साथ छेड़-छाड़ ना करें। कोर्ट ने यह भी साफ कर दिया है कि जमानत की अवधि के दौरान त्यागी एनसीआर छोड़कर नहीं जाएंगे और जांच में सहयोग करेंगे।

त्यागी इटली और भारत में आरोपी हैं। त्यागी पर आरोप है कि उन्होंने चॉपर करार को मूर्त रूप देने के लिए इसका फ्लाइंग सीलिंग 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर करने में मदद की थी।