नई दिल्ली: बीजेपी की तरफ से पूर्व क्रिकेटर कपिल देव और फिल्म एक्ट्रेस माधुरी दीक्षित राज्यसभा भेजी जा सकती हैं. अंग्रेजी अखबार द हिन्दू की खबर के मुताबिक बीजेपी 10 से 12 लोगों को राज्यसभा के लिए नॉमिनेट कर सकती है. संसद के मॉनसून सत्र से पहले इनके नामों को फाइलन किया जा सकता है. इससे पहले कांग्रेस क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और एक्ट्रेस माधुरी को राज्यसभा भेज चुकी है. आपको बता दें कि 2019 आम चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह अपनी पार्टी के ‘ संपर्क फॉर समर्थन ’ अभियान के तहत फिल्म अभिनेत्री माधुरी दीक्षित और पूर्व क्रिकेटर कपिल देव से मुलाकात कर अपनी पार्टी के लिए समर्थन मांग चुके हैं. Also Read - 'राजस्थान में फिर शुरू होने वाला है सरकार गिराने का खेल', CM गहलोत बोले- हमारे विधायकों को बैठाकर चाय-नमकीन खिला रहे अमित शाह

Also Read - Hyderabad Election Result 2020: हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बजा बीजेपी का डंका, टीआरएस को फिर मिली सत्ता

मुलाकात के दौरान शाह ने अभिनेत्री को पिछले चार सालों में भाजपा नेतृत्व वाली केंद्र सरकार की उपलब्धियां गिनाने वाली एक पुस्तिका भेंट की थी. बैठक में माधुरी के पति श्रीराम नेने भी मौजूद थे. हालांकि उस समय माधुरी के राज्यसभा भेजे जाने की चर्चा नहीं थी. Also Read - GHMC Eelection Results 2020 Update: पलट गए रुझान, सबसे बड़ी पार्टी बनती दिख रही TRS, तीसरे नंबर पर भाजपा!

प्रणब मुखर्जी के भाषण का असर, RSS में आवेदन की संख्या 4 गुना बढ़ी

गौरतलब है कि मॉनसून सत्र 18 जुलाई से 10 अगस्त तक चलेगा. मॉनसून सत्र हंगामेदार रहने की उम्मीद है. 2019 के चुनाव से पहले कई मुद्दों पर विपक्ष की एकजुटता देखने को मिल सकती है. राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में सीसीपीए ने बैठक में इन तारीखों पर मुहर लगाई. अब राष्ट्रपति औपचारिक तौर पर सत्र बुलाएंगे.संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि मॉनसून सत्र के दौरान कुल 18 दिन तक कामकाज होगा.

पीएम पद के लिए राहुल गांधी की दावेदारी: तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव तय करेंगे भविष्य

इस सत्र में तीन तलाक सहित अन्य विधेयक सरकार के एजेंडा में टॉप पर रहेंगे. अनंत कुमार ने कहा कि हम विपक्षी दलों से सहयोग और समर्थन की अपेक्षा करते हैं. विधायी कामकाज के एजेंडे में कई महत्वपूर्ण मुद्दे हैं जिन्हें सरकार मानसून सत्र में लेना चाहती है.

मॉनसून सत्र में छह से अधिक अध्यादेश लाए जाएंगे.तीन तलाक विधेयक लोकसभा में पारित हो गया है और राज्यसभा में लंबित है. यह विधेयक सरकार की शीर्ष प्राथमिकताओं में रहेगा. सरकार राष्ट्रीय अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने पर जोर देगी. मेडिकल शिक्षा के लिए राष्ट्रीय आयोग विधेयक और ट्रांसजेंडर विधेयक को भी मॉनसूत्र सत्र में लाया जाएगा.