नई दिल्ली: कावेरी मुद्दे को लेकर लोकसभा में बृहस्पतिवार को अन्नाद्रमुक और कर्नाटक से संबंध रखने वाले भाजपा सदस्यों के बीच हल्की नोक-झोंक देखने को मिली. संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से अन्नाद्रमुक के सदस्य कावेरी नदी पर बांध के निर्माण को रोकने की मांग को लेकर निरंतर हंगामा कर रहे हैं और उन्होंने बृहस्पतिवार को भी इसी मुद्दे पर नारेबाजी की. शून्यकाल के दौरान शोर-शराबे के बीच अन्नाद्रमुक के पी वेणुगोपाल ने कावेरी नदी पर बांध का मुद्दा उठाया और कहा कि इससे किसान बड़े पैमाने पर प्रभावित हुए हैं.

शीतकालीन सत्र: शिवसेना ने लोकसभा में राम मंदिर मुद्दे पर किया हंगामा, अध्यादेश की मांग

उन्होंने कहा कि इस संदर्भ में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा और गृह मंत्री राजनाथ सिंह को ज्ञापन भी सौंपा गया. इस संबंध में राज्य विधानसभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव भी पारित किया गया, लेकिन निर्माण कार्य को नहीं रोका गया है. इस पर भाजपा के प्रह्लाद जोशी ने कहा कि कर्नाटक में कावेरी नदी के पानी का उपयोग सिर्फ पीने के लिए हो रहा है और किसी दूसरे मकसद के इस्तेमाल नहीं हो रहा है. इस दौरान दोनों पक्षों के सदस्यों में मामूली नोंक-झोंक देखने को मिली. ( इनपुट एजेंसी )

शीतकालीन सत्र: हंगामे के बीच लोकसभा में ‘Transgender Rights Bill’ पास