ऋषिकेश: ऋषिकेश स्थित एम्स के छात्रों और स्थानीय लोगों के बीच हुई पथराव, तोड़फोड़ और हिंसक मारपीट की घटना के बाद मंगलवार को एम्स प्रशासन ने छह छात्रों को अगले आदेश तक संस्थान से निष्कासित कर दिया है. एम्स मेडिकल कॉलेज की डीन सुरेखा कुमार ने घटना को संस्थान की प्रतिष्ठा के विरुद्ध मानते हुए 6 छात्रों को अगले आदेश तक निष्कासित कर दिया है. वहीं, दुकानदार राजीव राणा की तहरीर पर करीब 80 अज्ञात लोगों के खिलाफ बलवा, मारपीट, नुकसान का मामला दर्ज कराया है.

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, रविवार की रात एम्स के कुछ छात्रों की स्थानीय दुकानदारों से हाथापाई हो गई. हालांकि, स्थानीय युवकों के आ जाने के बाद वे वहां से चले गए. सोमवार रात नौ बजे फिर दुकानदारों और एम्स के छात्रों के बीच मारपीट, पत्थरबाजी और तोड़फोड़ की घटना हुई, जिसके बाद पुलिस ने हस्तक्षेप कर हालात को नियंत्रण में लिया.

दूसरी तरफ, ऋषिकेश कोतवाली में वीरभद्र मार्ग के दुकानदार राजीव राणा की तहरीर पर करीब 80 अज्ञात लोगों के खिलाफ बलवा, मारपीट, नुकसान का मामला दर्ज कराया है, जिसकी जांच के लिए सीसी टीवी को खंगाला जा रहा है.

कोतवाली के पुलिस थानाध्यक्ष रितेश कुमार शाह ने बताया कि पुलिस ने एम्स के दो छात्रों को पूछताछ के लिए रोका हुआ है जिसकी जानकारी एम्स को दे दी गई है.

एम्स प्रशासन के पास इस सवाल का जबाब नहीं है कि शाम सात बजे बाद परिसर से 70-80 छात्र कैसे और किसकी अनुमति या पास लेकर बाहर आए. इस संबंध में, एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश थपलियाल ने कहा कि यह मसला एकेडमिक्स का है जो एक अलग यूनिट है और इसका सारा नियंत्रण कॉलेज प्रशासन के पास है.