नई दिल्ली. दिल्ली का ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (AIIMS) देश की ऐसी जगह है, जहां लोग काफी उम्मीदों से आते हैं. कई अस्पतालों और डॉक्टरों के चक्कर काटने के बाद भी जब वह निराश होते हैं तो उन्हें आखिरी किरण यहीं दिखती है. इसके आउटपेशेंट डिपार्टमेंट (OPD) में प्रतिदिन 8 हजार लोग आते हैं. इसे देखते हुए वह उसे री-लोकेट किया जाएगा, जिससे मरीजों को परेशानी न हो.

आधे किमी की दूरी पर है नया कैंपस
एम्स अपने ओपीडी को मैन कैंपस से मस्जिद मोड़ शिफ्ट करेगा. यह पुरानी जगह से लगभग आधे किलोमीटर की दूरी पर है. बताया जा रहा है कि इस साल मार्च तक वहां नया ओपीडी ब्लॉक बन जाएगा.

फ्री ट्रांसपोर्ट सर्विस
नए ओपीडी ब्लॉक में मरीजों और उनके परिजनों को पहुंचने में दिक्कत न हो इसके लिए कैंपस से नए ब्लॉक तक फ्री ट्रांसपोर्ट सर्विस चालू करेगी. बता दें कि एम्स में पूरे देश से लोग आते हैं. फिलहाल ओपीडी सर्विस मेन बिल्डिंग में चल रही है. लेकिन, यहां बहुत ज्यादा भीड़ हो जाती है, जिसे देखते हुए इसे री-लोकट करने की योजना बनी.

डिप्टी डायरेक्टर ने ये कहा
एम्स के डिप्टी डायरेक्टर (प्रशासन) सुभाशीष पांडा ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए कहा कि नए बिल्डिंग का निर्माण हो चुका है. अब ओपीडी को री-लोकेट करने के लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर को पूरा किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि इस साल मार्च तक ये शिफ्टिंग हो जाएगी.