नई दिल्ली: भाजपा शासित कुछ राज्यों ने तथाकथित लव जिहाद की रोकथाम के लिए योजनाएं बनाई हैं. इसको लेकर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि ऐसे कानून लाने वाले राज्‍य पहले संविधान पढ़ लें. ओवैसी का कहना है कि ऐसा कोई भी कानून संविधान के अनुच्‍छेद 14 और 21 का उल्‍लंघन है. Also Read - मध्य प्रदेश की धरती पर 'लव जिहाद' नहीं होने दूंगा, ये देश तोड़ने का षड़यंत्र: शिवराज चौहान

कुछ राज्यों द्वारा ‘लव-जिहाद’ के खिलाफ कानून बनाए जाने पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, “ये कानून अनुच्छेद 14 और 21 का उल्लंघन होगा, उनको संविधान पढ़ना चाहिए. क्या आप विशेष विवाह अधिनियम खत्म कर देंगे. देश के बेरोज़गार नौजवानों का ध्यान हटाने के लिए BJP ये सब ड्रामे कर रही है.” Also Read - लव जिहाद पर योगी सरकार का बड़ा फैसला, धर्म परिवर्तन से पहले DM को देनी होगी सूचना, जानें सजा का प्रावधान

उन्होंने कहा कि भाजपा द्वारा फैलाया जा रहा नफरत का यह दुष्‍प्रचार नहीं चलेगा. ओवैसी ने आरोप लगाते हुए कहा कि हैदराबाद में बाढ़ आई थी मोदी सरकार ने उस समय क्‍या मदद दी? उन्होंने कहा, “मोदी सरकार जीएचएमसी चुनावों को सांप्रदायिक रंग देना चाहती है लेकिन इस बार यह काम नहीं करेगा क्‍योंकि लोग असलियत जानते हैं.” Also Read - उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल ने विवाह के लिए अवैध धर्मांतरण रोधी कानून के प्रस्ताव को दी मंजूरी, हो सकती है 10 साल की जेल

महज ग्रेटर हैदराबाद म्‍युनिसिपल कॉर्पोरेशन चुनावों (जीएचएमसी) को लेकर कहा, “RS, BJP,कांग्रेस ये सभी पार्टी सिर्फ चुनाव के समय में ही एक्टिव होती हैं जबकि हमारी पार्टी साल के 12 महीने काम करती हैं, हमें विश्वास है कि हमने जो काम किया है उससे हमें अच्छा नतीजा मिलेगा और हमें कामयाबी हासिल होगी.”