कोयंबटूर: भारतीय वायुसेना (आईएएफ) के प्रमुख बीएस धनोआ ने सोमवार को कहा कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को फिर से लड़ाकू विमान उड़ाने की इजाजत उनके शारीरिक रूप से फिट रहने पर ही दी जाएगी. अभिनंदन 60 घंटे पाकिस्तान के कब्जे में रहे थे. इसके बाद पाकिस्तान ने उन्हें छोड़ दिया था. तब से लगातार कयास लगाए जा रहे हैं कि विंग कमांडर अभिनंदन कब तक वापसी करेंगे. अभिनंदन अभी जांच प्रक्रिया से गुजर रहे हैं. अभिनंदन को लेकर वायु सेना प्रमुख ने भी सवालों के जवाब दिए हैं.

यहां मीडिया से बातचीत करते हुए एयर चीफ मार्शल धनोआ ने कहा, ‘अभिनंदन का फिर से विमान उड़ाना उनके मेडिकल फिटनेस पर निर्भर है. अगर वह लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए फिट पाए गए तो वह उसी यूनिट में वापस जाएंगे.’ उन्होंने कहा कि लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए शारीरिक फिटनेस की जरूरत होती है और प्रवेश स्तर पर अस्वीकृति दर बहुत ज्यादा होती है.

एयर स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए? वायु सेना प्रमुख ने कहा- हमारा काम आतंकियों के शव गिनना नहीं

पाकिस्तान के बालाकोट में 26 फरवरी को आईएएफ हमले में मारे गए आतंकवादियों की संख्या के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि संख्या के बारे में बताना सरकार का काम है. धनोआ ने कहा, ‘हम हताहतों की गिनती नहीं करते. हम यह देखते हैं कि टारगेट हिट हुआ या नहीं.’ वायुसेना प्रमुख धनोआ ने कहा कि बालाकोट हवाई हमले में हताहत हुए आतंकियों की संख्या की जानकारी सरकार देगी. मरने वालों की संख्या लक्षित ठिकाने में मौजूद लोगों की संख्या पर निर्भर करती है, वायुसेना मरने वालों की गिनती नहीं करती. उन्होंने कहा, वायुसेना ने जो लक्ष्य तय किए थे उस लक्ष्य को निशाना बनाया. उन्होंने कहा कि अगर हमने जंगल में बम गिराया होता तो पाकिस्तान प्रतिक्रिया क्यों देता. उन्होंने कहा कि हमने टारगेट को हिट किया. कितना नुकसान हुआ यह देखना सेना का काम नहीं है यह काम सरकार का है.