हिंडन (उप्र): भारतीय वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान के बालाकोट में हुए हवाई हमले की रणनीतिक प्रासंगिकता आतंकवादी हमलों को अंजाम देने वालों को दंडित करने के लिए राजनीतिक नेतृत्व के संकल्प को दर्शाती है. सरकार के आतंकवादी हमलों से निपटने के तरीके में यह एक प्रमुख बदलाव रहा है. भदौरिया ने वायुसेना दिवस के मौके पर अपने संदेश में कहा कि भविष्य के सभी अभियानों में परिचालन सफलता सुनिश्चित करने के लिए भारतीय वायुसेना को लड़ाकू उपकरणों और असाधारण प्रशिक्षण मानकों की उच्च सेवा क्षमता को बनाए रखना चाहिए.

कुछ ही देर में भारत को मिलने वाला है राफेल, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भरेंगे उड़ान

वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने भारतीय वायुसेना (आईएएफ) की स्थापना की 87वीं वर्षगांठ के अवसर पर हिन्डन एयरबेस में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि इसकी रणनीतिक प्रासंगिकता आतंकवाद को अंजाम देने वालों को दंडित करने के लिए राजनीतिक नेतृत्व का संकल्प है और पाकिस्तान के अंदर आतंकवादियों के खिलाफ हमले को अंजाम देने की वायुसेना की क्षमता है। आतंकवादी हमलों से निपटने के सरकार के तरीके में यह एक बड़ा बदलाव है.

भारतीय वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस, सेना ने दिखाया दम, किए हैरतअंगेज करतब

अभी हाल ही में वायुसेना प्रमुख का पद संभालने वाले भदौरिया ने हिंडन एयरबेस पर अपने एक अलग संबोधन में यह भी बताया कि भू-राजनीतिक वातावरण तेजी से बदल रहा है और अनिश्चितताओं ने राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए कई चुनौतियां खड़ी कर दी हैं। बालाकोट हवाई हमले का हवाला देते हुए वायुसेना प्रमुख ने कहा कि यह बहुत ही महत्वपूर्ण है कि हम मौजूदा आतंकवाद के इस्तेमाल के खतरे के प्रति हमेशा सतर्क और चौकन्ना रहें। इस समारोह के दौरान, वायुसेना ने आतंकवादी हमलों को अंजाम देने वालों को दंडित करने के अपने संकल्प और क्षमता का प्रदर्शन किया है. हमें अपने देश की रक्षा को चुनौती देने वाली किसी भी आकस्मिक घटना से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार रहने की आवश्यकता है. इसी साल 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकवादी हमलों के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले को अंजाम दिया था. पुलवामा आतंकवादी हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे.

दिल्ली में कैसे कम किया प्रदूषण, केजरीवाल को ये बताने डेनमार्क जाना था, केंद्र सरकार ने नहीं दी मंजूरी

इसके अलावा भदौरिया ने बताया कि भारतीय वायुसेना कमांडो, स्टेशनों और इकाइयों के सभी कर्मियों के योगदान को स्वीकार करती है. जिन्होंने इस साल के शुरू में बालाकोट में आतंकवादी शिविरों पर हवाई हमलों की सफलता में योगदान दिया था. वायु सेना दिवस के परेड में बालाकोट हवाई हमलों की धूम रही. बलाकोट हवाई हमले में योगदान के लिए 51 स्क्वाड्रन, नौ स्क्वाड्रन और 601 एकल इकाई को भदौरिया ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया. बालाकोट अभियान का हिस्सा रहे विंग कमांडर अभिनंदन तथा अन्य लड़ाकू पायलटों ने फ्लाईपास्ट में हिस्सा लिया. वहीं बालाकोट हमले के बाद पाकिस्तान ने भारत में हवाई हमला किया था. इस प्रक्रिया में अभिनंदन ने पाकिस्तानी वायु सेना के विमान को लड़ाई में मार गिराया था। जिसके बाद में वह गिरफ्तार हो गए थे, जहां वह तीन दिन तक कैद में रहे थे.

(इनपुट भाषा)