नई दिल्‍ली: भारतीय वायु सेना (IAF) के प्रमुख एयर चीफ मार्शल (ACM) आरकेएस भदौरिया ने सोमवार को पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि एयफोर्स एलओसी के पार आतंकवादी कैंम्‍पों और लॉन्‍चपैड्स को ध्‍वस्‍त करने के लिए 24 घंटे तैयार है. उन्‍होंने चीन द्वारा हवाई उल्लंघन के सवाल पर कहा कि इस तरह के मुद्दों से ‘कोई चिंता नहीं होनी चाहिए’. Also Read - इंग्लैंड दौरे पर जाने से कतरा रही हैं वेस्टइंडीज, पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया टीमें

न्‍यूज एजेंसी ANI ने भारतीय वायुसेना प्रमुख भदौरिया से जब पाकिस्तान वायु सेना के बारे में पूछा गया कि हंदवाड़ा मुठभेड़ के बाद भारत द्वारा जवाबी कार्रवाई के डर से अपनी गश्त बढ़ाते हुए पाकिस्तान सही में चिंतित था. इसके जवाब में वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने कहा, जब भी हमारी धरती पर कोई आतंकवादी हमला होता है, तो उन्हें चिंतित होना चाहिए और वे सही चिंतित थे. यदि उन्हें इन चिंताओं से बाहर निकलना है तो भारत में आतंकवाद को रोकना होगा. Also Read - जम्मू कश्मीर: पाकिस्तान से आया संदिग्ध कबूतर पकड़ा गया, कूट भाषा में लिखे संदेश को समझने की कोशिश कर रहे अधिकारी

इंडियन एयरफोर्स प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा है कि कि पीओके में आतंकी कैंपों पर कार्रवाई की जरूरत पड़ती है तो भारतीय वायुसेना 24 घंटे तैयार है. वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने कहा कि हमारे देश में जब भी आतंकी हमला होता है तो पाकिस्तान को चिंता करनी ही चाहिए. पाकिस्तान इस चिंता से मुक्त होना चाहता है, उसे भारत में टेरेरिज्‍म को बढ़ावा देना बंद करना होगा. Also Read - पाकिस्तान से निकला टिड्डी दल यूपी पहुंचा, झांसी पर हमला, कई किलोमीटर लम्बा है झुंड, जिले में अलर्ट

ये बात वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में तब कहा कि जब उनसे पूछा गया था कि क्या हंदवाड़ा आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान को भारत की ओर से बदले की कार्रवाई का डर है?

हाल ही में लद्दाख में चीन की ओर से हवाई सीमा के उल्लंघन के सवाल पर भदौरिया ने कहा, “वहां असामान्य गतिविधियां हुई थीं. ऐसी घटनाओं पर हम नजर रखते हैं और जरूरी कार्रवाई भी करते हैं. ऐसे मामलों में ज्यादा चिंता की जरूरत नहीं.”

बता दें कि बीते 9 मई को उत्‍तरी सिक्किम के नाकू ला सेक्टर में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई थी. उसी दौरान लद्दाख में एलएसी के पास चीन की सेना के हेलिकॉप्टर देखे गए थे. इसके बाद इंडियन एयरफोर्स ने भी लड़ाकू विमानों की पेट्रोलिंग शुरू कर दी थी.

जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में 2 मई को आतंकियों से मुठभेड़ में कर्नल आशुतोष शर्मा समेत 5 जवान शहीद हो गए थे. सेना ने मुठभेड़ के दौरान दो आतंकियों को मार दिया था. इसमें से एक लश्कर-ए-तैयबा का एक शीर्ष आतंकी हैदर था. इसके बाद 4 मई को सीआरपीएफ की पेट्रोलिंग पार्टी पर आतंकी हमले में 3 जवान शहीद हो गए थे और एनकाउंटर में एक आतंकवादी थी मारा गया था.