नई दिल्ली: एअर इंडिया का चेक-इन-सॉफ्टवेयर करीब छह घंटे तक ठप रहा जिसके कारण इस एअरलाइन के सैकड़ों यात्री दुनियाभर में कई हवाईअड्डों पर फंस गए. एअरलाइन के सूत्रों के अनुसार, सॉफ्टवेयर (जो अटलांटा स्थित कंपनी एसआईटीए का है) शनिवार तड़के करीब तीन बजे से सुबह नौ बजे तक ठप रहा. इसके परिणामस्वरूप दुनियाभर में प्रमुख हवाईअड्डों पर बोर्डिंग पास जारी नहीं किए जा सके और विभिन्न विमानों की उड़ान में देरी हो गई. Also Read - विजयवाड़ा हवाई अड्डे पर बिजली के खंभे से टकराया Air India Express का विमान, बाल-बाल बचे 64 यात्री

Also Read - एयर इंडिया के स्टाफ ने Manu Bhaker से की 'बदतमीजी', कार्रवाई की मांग

राष्ट्रीय विमानन कंपनी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अश्विनी लोहानी ने कहा, ‘‘प्रणाली दुरुस्त कर ली गई है. इसने काम करना शुरू कर दिया है. हम यात्रियों को हुई असुविधा के लिए खेद व्यक्त करते हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम दिन के लिए सभी विमानों को नियमित करने की कोशिश कर रहे हैं. लेकिन आज कुछ विमानों की उड़ान में देरी होगी. मुझे करीब दो घंटे तक की देरी की उम्मीद है क्योंकि सुबह पूरी प्रणाली बाधित हो गई.’’ Also Read - LIC IPO: नए वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में आ सकता है एलआईसी का आईपीओ: तुहिन कांत पांडेय

एयर इंडिया का नया नियम: बुकिंग के 24 घंटे में टिकट कैंसिल या बदलाव करने पर नहीं लगेगा कोई शुल्क

लोहानी ने कहा कि एअर इंडिया एसआईटीए कंपनी की यात्री सेवा प्रणाली का इस्तेमाल करती है. एसआईटीए सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की एक बड़ी कंपनी है जो एअरलाइन को आगमन, बोर्डिंग और सामान ट्रैक करने की प्रौद्योगिकी मुहैया कराती है. आज सुबह इसमें मरम्मत का कार्य किया गया. उन्होंने कहा, ‘‘इसके बाद कुछ तकनीकी खामी आ गई जिसके कारण प्रणाली ने काम करना बंद कर दिया. दिल्ली जैसे बड़े हवाईअड्डों पर कुछ बड़ी दिक्कतें हुईं.’’

एअरलाइन ने शनिवार सुबह बोर्डिंग पास जारी नहीं किए जिससे गुस्साए कई यात्रियों ने सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा उतारा. यात्री डॉ. सोनल सक्सेना ने सुबह सात बजकर 20 मिनट पर ट्वीट किया, ‘‘बिल्कुल अराजकता है. तड़के तीन बजे से दिल्ली में एअर इंडिया का सिस्टम काम नहीं कर रहा है. सभी विमान खड़े हैं और उनकी उड़ान में देरी है. कोई आगमन और बोर्डिंग नहीं.’’ एअरलाइन के प्रवक्ता ने सुबह करीब आठ बजे कहा, ‘‘एसआईटीए सर्वर डाउन है. इसके कारण विमान सेवाएं प्रभावित हुईं हैं. हमारी तकनीकी टीम काम पर लगी है और जल्द ही व्यवस्था दुरुस्त कर ली जाएगी.’’ इससे पहले पिछले साल 23 जून को ऐसी ही घटना हुई थी जब एअरलाइन के चेक-इन सॉफ्टवेयर में तकनीकी खामी के कारण देशभर में उसके 25 विमानों ने नियत समय से देरी से उड़ान भरी थी.