नई दिल्ली: अगर आप विदेश की यात्रा करके भारत के किसी भी एयरपोर्ट पर पर उतरते हैं, तो ऐसे में आपको एयरपोर्ट पर क्वारंटीन कर लिया जाएगा. दिशानिर्देशों के आधार पर तय किए गए क्वारंटीन के दिनों के पूरा हो जाने के बाद लोगों को डिस्चार्ज किया जाएगा. लेकिन आप एयरपोर्ट पर क्वारंटीन होने से बच सकते हैं. इसके लिए आपको बस लैंड करने के बाद एयरपोर्ट पर RT-PCR रिपोर्ट देनी होगी. इस रिपोर्ट के निगेटिव होने पर ही आपको क्वारंटीन नहीं किया जाएगा. एयर इंडिया एक्सप्रेस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक यह RT-PCR टेस्ट 96 घंटे से अधिक पुरानी नहीं होनी चाहिए. अंतरराष्ट्रीय यात्रा कर विमानों से लौट रहे यात्री अपनी कोरनो रिपोर्ट को www.newdelhiairport.in अपलोड भी कर सकते हैं.Also Read - COVID-19 Update: देश में आज आए कोरोना के 41,831 नए केस, लगातार बढ़ रहे एक्‍टिव मरीज

वहीं एयर इंडिया ने जानकारी देते हुए बताया कि अगर कोई यात्री UAE जा रहा है तो उसके लिए ICMR द्वारा अप्रूव्ड किसी भी लैब से RT-PCR टेस्ट की रिपोर्ट होनी आवश्यक है. इस रिपोर्ट को लैब के अधिकारिक स्टैम्प पैड पर लिखा होना चाहिए और हस्ताक्षर भी होने चाहिए. बता दें कि RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट की फोटोकॉपी को मान्य करार नहीं दिया जाएगा. साथ ही रिपोर्ट पर हाथ से लिखी गई कोई भी चीज मान्य नहीं होगी और रिपोर्ट अधिकतम 96 घंटे पुरानी होनी चाहिए. Also Read - केरल और महाराष्ट्र से कर्नाटक आने वाले सभी यात्र‍ियों के लिए RT-PCR की निगेटिव जांच रिपोर्ट जरूरी: SW Railway

बता दें कि दुनियाभर में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी है. इस कारण सुरक्षा के लिहाज व एहतियात बरतने के लिए इस प्रकार की प्रक्रिया को अपनाया जा रहा है. वहीं अगर आप घरेलू यात्रा करने जा रहे हैं तो आपको घरेलू विमान यातायात के नियम जरूर मालूम होने चाहिए. इन नियमों के उल्लंघन पर आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. Also Read - केंद्र ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए राज्यों को 1828 करोड़ रुपये दिए

बता दें कि सभी यात्रियों को एयरपोर्ट पहुंचने से पहले ही वेब चेकइन करना होगा. यात्रियों को विमान के समय से 4 घंटे पहले एयरोपोर्ट पर पहुंचना होगा. वहीं लगेज को 3 घंटे पहले ही काउंटर पर जमा कराना होगा. सभी यात्रियों के फोन में आरोग्य सेतु ऐप का होना अनिवार्य है. अगर ऐप में ग्रीन स्टेटस दिखा रहा है तभी आपको विमान में उड़ान भरने का मौका मिलेगा. वरना आपको यात्रा करने से रोक दिया जाएगा. आपके फोन में आरोग्य सेतु ऐप नहीं होने पर भी आपको यात्रा करने से रोक दिया जाएगा.