दिल्ली: शराब पीकर प्लेन उड़ाने पहुंचे पायलट पर तीन महीने के लिए रोक लगा दी गई है. दिल्ली से अबूधाबी के लिए उड़ान भरने से थोड़ी देर पहले ही पायलट का रूटीन एल्कोहल टेस्ट किया गया, जिसमे टेस्ट पॉजिटिव आया. क्योंकि ऐसा पहली बार था इसलिए उस पर तीन महीने उड़ान न भरने का प्रतिबंध लगाया गया है.

पायलट की ड्यूटी एयर इंडिया एक्सप्रेस आईएक्स 115 दिल्ली से अबू धाबी उड़ान पर लगी थी. विमान को शनिवार रात को 8:50 पर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से उड़ना भरनी थी. एयर इंडिया एक्सप्रेस में प्रतिनियुक्ति पर काम कर रहे पायलट अल्कोहल जांच (ब्रीथ एनालाइजर) में शराब के प्रभाव में पाया गया तो उसे तीन महीने तक उड़ान ड्यूटी से रोक दिया गया है.

ये हैं एयरक्राफ्ट का रूल
एयरक्राफ्ट रूल्स के नियम 24 के तहत कोई भी पायलट उड़ान भरने के 12 घंटे पहले किसी भी तरह के अल्कोहल का सेवन नहीं कर सकता. इसके साथ ही उड़ान भरने से ठीक पहले और बाद में उसे अल्कोहल टेस्ट पास करना जरूरी है.

लाइसेंस भी हो सकता है रद्द

अपराध दोहराने पर ये है सजा नियमों के मुताबिक, अगर कोई पायलट मेडिकल चेकअप में किसी तरह के नशे में पॉजिटिव पाया जाता है या BA टेस्ट से इनकार करता है तो उसे तीन महीने के लिए ड्यूटी से बाहर किया जा सकता है, या उसका लाइसेंस रद्द किया जा सकता है. अगर इसके बाद अपराध दोहराया जाता है तो उसे तीन साल के लिए सस्पेंड कर दिया जाएगा.

लगातार सामने आ रहे हैं ऐसे मामले

सिविल एविएशन के राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने पिछले महीने संसद में कुछ आंकड़े पेश किए थे. इन आंकड़ों के मुताबिक, 2015 में बीए टेस्ट का उल्लंघन करने के 49 मामले सामने आए. 2016 में यह आंकड़ा 61 था. इतना ही नहीं 2016 में उल्लंघन करने पर एयर इंडिया के 24, इंडिगो के 9 और स्पाइस जेट के 7 सात मामले दर्ज किए गए.