नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रविवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) खतरनाक स्तर तक पहुंच गया. शनिवार शाम थोड़ी राहत के बाद 625 के खतरनाक स्तर तक पहुंचने के चलते वापस से शहर में ‘गंभीर प्लस श्रेणी’ बरकरार है. हलांकि, मौसम विभाग का कहना है कि रविवार को इसमें कुछ राहत मिलने की संभावना है परंतु प्रदूषकों (पोल्यूटेंट) के चलते दृश्यता पर असर पड़ रहा है. उधर, सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन ने दिल्ली और एनसीआर में इंदिरा गांधी हवाईअड्डा, मेट्रो स्टेशनों और अन्य सरकारी प्रतिष्ठानों पर तैनात अपने सभी कर्मियों को प्रदूषण रोधी मास्क तत्काल वितरित करने के आदेश दिए हैं.

 

छिटपुट बारिश के बाद एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) के 400 के स्तर से नीचे गिर जाने के चलते शनिवार को कुछ राहत मिली थी. यदि हालात ऐसे ही रहे तो दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में गैर-आवश्यक ट्रकों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाना पड़ सकता है. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने हफ्तों पहले वाहनों को लेकर ऑड-ईवन स्कीम की घोषणा की थी, सोमवार से वह दिल्ली में लागू होगी. इसे लागू करने का समय अब खतरनाक हवा की गुणवत्ता के चलते उपयुक्त हो गया है. सफर इंडिया के अनुसार, खतरनाक स्तर का प्रभाव डालते हुए पीएम 10 और पीएम 2.5 का स्तर क्रमश: 648 और 475 की गंभीर श्रेणी में रहा.

बारिश और तेज हवाओं से भी नहीं मिली राहत, Delhi-NCR में सांस लेना हुआ मुश्किल

5 नवंबर तक सभी सरकारी और निजी स्कूलों को बंद करने के आदेश
एयर क्वालिटी इंडेक्स के यह स्तर सभी के लिए हानिकारक हैं, जिसके चलते लोगों को एडवाइजरी जारी कर के बाहरी गतिविधि से बचने के लिए कहा गया है. इस बीच, नोएडा के जिला मजिस्ट्रेट ब्रजेश नारायण सिंह ने 5 नवंबर तक दो दिनों के लिए सभी सरकारी और निजी स्कूलों को बंद रखने के आदेश दिए हैं. दिल्ली सरकार ने पहले सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा के बाद 5 नवंबर तक स्कूलों को बंद करने के आदेश दिए थे.

फतेहाबाद की हवा देश में सबसे खराब, लखनऊ व पटना की स्थिति दिल्ली से भी बद्तर

CISF ने मेट्रो स्टेशनों पर तैनात कर्मियों को मास्क बांटे
दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) के रविवार को 625 के खतरनाक स्तर पर पहुंचने के बाद शहर को प्रदूषण के मामले में गंभीर से आगे की श्रेणी में डाल दिया गया है और ऐसे में सीआईएसएफ के महानिदेशक राजेश रंजन ने दिल्ली और एनसीआर में इंदिरा गांधी हवाईअड्डा, मेट्रो स्टेशनों और अन्य सरकारी प्रतिष्ठानों पर तैनात अपने सभी कर्मियों को प्रदूषण रोधी मास्क तत्काल वितरित करने के आदेश दिए हैं. केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के विशेष सुरक्षा समूह (एसएसजी) की इकाई से संबंधित कर्मियों को भी मास्क मुहैया कराए जाएंगे. एसएसजी वीआईपी सुरक्षा ड्यूटी करती है.

प्रदूषण से घुट रहा दिल्ली का दम: मिट्टी न उड़े इसलिए सड़कों पर पानी का छिड़काव