राजस्थान उपचुनावों में दो लोकसभा सीटों और एक विधानसभा सीट के लिए गुरुवार सुबह आठ बजे मतगणना शुरू हुई तो नतीजे तभी से समझ आने लगे थे. इन उपचुनावों में सभी की नजर अजमेर सीट पर थी. बीजेपी का गढ़ समझे जाने वाली इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. रघु शर्मा जीत गए. बीते आठ लोकसभा चुनावों में से छह बार यहां से उसने ही जीत हासिल की है. इस सीट पर कद्दावर जाट नेता सांवरलाल जाट के निधन के बाद उपचुनाव हुआ था. Also Read - सुभाषचंद्र बोस के धर्मनिरपेक्ष विचारों के खिलाफ थे RSS के लोग, BJP को जयंती मनाने का अधिकार नहीं: कांग्रेस

कौन हैं रघु शर्मा: Also Read - Congress President Election: कांग्रेस ने कहा- जून में उसका नया निर्वाचित अध्यक्ष होगा

शर्मा अजमेर जिले के सावर गांव के रहने वाले हैं. वह केकड़ी से विधायक रहे हैं.उन्होंने 1982-83 में एलएलबी किया. वे राजस्थान विश्वविद्यालय छात्र संघ अध्यक्ष रहे हैं. उन्होंने अपना सियासी सफर यहीं से शुरू किया. वह इससे पहले भी एक बार लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं मगर उन्हें कामयाबी नहीं मिली थी. मगर इस बार वे बीजेपी को उसी के गढ़ में शिकस्त देने में कामयाब रहे. Also Read - Breaking News, Congress President Election: जानें कब होगा कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव, सोनिया ने किया ऐलान

शर्मा का प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से अच्छा रिश्ता है. वह मौजूदा समय में सूबे में कांग्रेस के उपाध्यक्ष हैं. अशोक गहलोत ने उन्हें राजस्थान विधानसभा में पार्टी के मुख्य सचेतक भी बनाया था.

बता दें कि 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान अजमेर सीट से कांग्रेस के टिकट पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री सचिन पायलट चुनाव लड़े थे. उन्हें बीजेपी के सांवरलाल जाट ने शिकस्त दी थी. ऐसा माना जा रहा था कि इस उप चुनाव में पायलट खुद मैदान में उतरेंगे मगर उन्होंने ऐसा नहीं किया और शर्मा पर दांव खेला.